प्रभारी मंत्री ने किया कोविड-19 के संक्रमण से बचाव सम्बन्धी समीक्षा बैठक

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । कोविड-19 की महामारी के इस दूसरे अप्रत्याशित लहर में जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पूरे देश में युद्ध स्तर पर आक्सीजन एक्सप्रेस चलाकर और पी0एम0 केयर्स फण्ड के माध्यम से पूरे देश के जिला अस्पतालों और मेडिकल कालेजों में आक्सीजन प्लांट स्थापित कर लोगों की जीवन की रक्षा की जा रही है और सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में बहुत कम समय में सभी अस्पतालों को आक्सीजन एवं अन्य सुविधाए उपलब्ध कराकर इस महामारी को नियंत्रण में किया गया है, जो अभूतपूर्व व ऐतिहासिहक है हम सबको प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री से प्रेरणा को लेकर सभी जनप्रतिनिधि, अधिकारी, चिकित्सक और कर्मचारी सेवा भाव से लोगों के जीवन और जीविका की रक्षा करें।

उक्त बातें राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), बेसिक शिक्षा विभाग/ जिले के प्रभारी मंत्री डॉ0 सतीश चन्द्र द्विवेदी ने कलेक्ट्रेट मीटिंग हाल में कोविड-19 के संक्रमण से बचाव सम्बन्धी समीक्षा बैठक करते हुए कही।

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), बेसिक शिक्षा विभाग/सोनभद्र जिले के प्रभारी मंत्री डॉ0 सतीश चन्द्र द्विवेदी जी ने कहॉ कि भारत सरकार व प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए काफी बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्थाएं की गयी है। जिनकी जीविका प्रभावित हुई है उनका भी ध्यान रखा गया है। कोविड-19 के संक्रमण के दौरान डाक्टर पैरामेडिकल स्टॉफ पुलिस कार्मिक, जिला प्रशासन व मीडिया के पदाधिकारी कोरोना योद्धा के रूप में कार्य कर रहे है, जो सराहनीय है। उन्होंने कहा कि सोनभद्र जिले के अनपरा का आक्सीजन उत्पादन प्लांट क्रियाशील होने से, सोनभद्र जिला जीवनरक्षक आक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर हो गया है, जिसके लिए जिला प्रशासन व इंजीनियरों की टीम प्रसंशा के पात्र है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण का काल संकट का समय है, इस समय धैर्य का परिचय देकर टीम भावना के साथ जीवन को सकारात्मक रूप में लेकर कार्य किया जाय।

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), बेसिक शिक्षा विभाग/सोनभद्र जिले के प्रभारी मंत्री डॉ0 सतीश चन्द्र द्विवेदी ने सोनभद्र जिले में कोरोना संक्रमण से रोकथाम की समीक्षा करते हुए पाया कि अब तक सोनभद्र जिले में 16540 केस आये जिसमें से 15427 ठीक हो गये है और 872 एक्टिव मामले वर्तमान में है। अब तक जिले में 24 मौते हुई है। संक्रमित मरीजों के देखभाल के लिए पूरी व्यवस्था की गयी है। जिले में आक्सीजन की कोई कमी नही है और एल-2 हॉस्पीटल में भर्ती होने वाले मरीजों को कोविड एक्ट के तहत खान-पानी काढा व दवाये उपलब्ध करायी जा रही है। उन्होंने कहा कि संक्रमित होने वाले मरीजों आनवश्यक रूप से बाहर/गैर जनपद/वाराणसी रीफर न किया जाय। जिले के सरकारी अस्पताल के साथ ही कोविड मरीजों के इजाल करने वाले अनुमन्य प्राइवेट अस्पतालों पर भी निगाह रखी जाय। जिले हर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर कम से 10-10 कंसरट्रेटर की व्यवस्था की जाय, ताकि इमरजेंसी में आने वाले मरीजो को सुविधा मिल सके उन्होंने कहा कि सरकारी अस्पताल कोन में तत्काल डाक्टर की व्यवस्था की जाय। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों अधिशासी अधिकारी व ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायतराज विभाग साफ सफाई व सैनेटाइजेशन का कार्य तत्परता के साथ करें, जहॉ पर कोरोना संक्रमण से किसी की मौत होती है या जिस गाव/मोहल्ले के कोराना के पॉजिटीव मरीज पाये जाय वहॉ विशेष अभियान चालाकर साफ सफाई व सैनेटाइजेन का कार्य कराया जाय। उन्होंने कहा कि सैनेटाइजेशन के कार्य में स्थानीय कार्यकर्ताओं से समन्यवय स्थापित बेहतर कार्य कराये जाय। टीकाकरण की समीक्षा करते हुए उन्होनें कहा कि 45 वर्ष के अधिक आयु वर्ष के 74,989 नागरीकों का प्रथम चरण का टीकाकरण किया गया है और 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के नागरीकों सहित जिले में प्रथम चरण के तहत 92,046 नागरीकों का कोविड बचाव सम्बद्धी टीकाकरण/वैक्सिनेशन किया गया है जिले में द्वितीय चरण का वैक्सिनेशन 26,464 नागरिकों का किया गया है।

प्रभारी मंत्री ने निर्देशित किया कि जिले के जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, जन प्रतिनिधि गण स्वयं के टीकाकरण का उदाहरण देते हुए नागरिको को जागरूक करे कि टीकाकरण के बाद कोराना का संक्रमण काफी कम होता है। जिन्होंने टीकाकरण कराया है अगर उन्हे कोरोना पॉजिटीव होता भी है तो इसमे जान जाने की खतरा काफी कम है लिहाजा कोरोना संक्रमण काल में जान बचाने के लिए टीकाकरण अवश्य कराएँ। उन्होंने कहा कि टीकाकरण व मास्क प्रयोग समाजिक दूरी व बार-बार साबुन पानी से हाथ धोनो से ही कोरोना से बचा जा सकता है। उन्होंने कहा कि जितना महत्व जीवन का है उनता ही महत्व व्यक्ति के मरने के बाद उसके शरीर का भी है, लिहाजा कोरोना काल में जिनकी मौत हो उनका अन्तिम संस्कार सम्मानजनक तरीके से किया जाय और जरूरतमंदो के अन्तिम संस्कार के लिए ग्राम पंचायत निधि से सरकार की तरफ से 5-5 हजार रूपये की आर्थिक मदद भी की जाय।

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), बेसिक शिक्षा विभाग/सोनभद्र जिले के प्रभारी मंत्री डॉ0 सतीश चन्द्र द्विवेदी ने जिला अस्पताल की व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि प्रति मिनट 45 लीटर उत्पादन क्षमता का आक्सीजन जनरेशन प्लांट स्थापित होकर 8-10 मरीजों को सीधे मरीजो के बेड पर आक्सीजन की आपूर्ति हो रही हैं। उसे और आगे बढ़ोत हुए एक और आक्सीजन जनरेशन प्लांट स्थापित करने का प्रयास किया जाय ताकि जिला अस्पताल के आक्सीजन युक्त बेड की क्षमता बढाकर ज्यादा से ज्यादा जरूरतमन्द मरीजों को आक्सीजन की व्यवस्था हो सके। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण के रोकने से जुडे अधिकारी व कर्मिक अपना मोबाइल खुला रखें और आने वाले मोबाइल को तत्काल उठाते शिकायतों का समाधान करें। उन्होंने कहॉ कि ब्लड बैंक में पर्याप्त रक्त उपलब्धता सुनिश्चित किया जाय और जिलाधिकारी स्वयं सेवी संगठनों से वर्चुअल मीटिंग करके रक्तदान की अपील करें। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना तहत जिले के सभी पात्र नागरिकों को निःशुल्क गेहु, चावल उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें और जिस कोटेदार की शिकायत पायी जाय उनके उपर कड़ी कार्यवाही किया जाय। खाद्यान्न वितरण व्यवस्था की सूची में जन प्रतिनिधियों को उपलब्ध करायी जाय ताकि अधिकारियों के द्वारा जनप्रतिनिधियों द्वारा भी खाद्यान्न वितरण का निरीक्षण किया जा सके। उन्होंने कहा कि जिले शुद्ध पेयजल व्यवस्था पर विशेष ध्यान दिया जाय और जनप्रतिनिधियों से रिबोर सम्बन्धी प्राप्त होने वाली पत्रों का निस्तारण करते हुए अनुपालन आख्या से जनप्रतिनिधियों को अवगत कराया जाय। उन्होंने कहा कि बरसात से पहले सडकों को गढ्ढा मुक्त करने और नालियों की साफ सफाई करा लिया जाय जिले नये सडको का प्रस्ताव शासन को भेजते हुए सूची जनप्रतिनिधियों को उपलब्ध कराया जाय। नव निर्वाचित ग्राम प्रधानों का शपथ ग्रहण की औपचारिकताएं पूरा होते ही न्याय पंचायतवार वर्चुअल मीटिंग करके नव निर्वाचित ग्राम प्रधानों को दायित्वों के प्रति जागरूक किया जाय। जिले के जो गॉव सबसे पहले कोरोना मुक्त होगें उन गावों को सरकार प्रोत्साहन देगी। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों का हाल चाल नियमित रूप से लिया जाय और उनकी सूची जनप्रतिनिधियों को भी उनकों मुहैइया जा रही व्यवस्थाओं के बारे में मोबाइल द्वारा जानकरी ली जा सके। उन्होने कहा कि अधिकारी/कर्मचारी स्वयं का बचाव करते हुए कोरोना योद्धा के रूप में तत्परता के साथ अपनी ड्यूटी निभाए।

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), बेसिक शिक्षा विभाग/सोनभद्र जिले के प्रभारी मंत्री डॉ0 सतीश चन्द्र द्विवेदी ने जिले में गेहूँ खरीद केन्द्रों की समीक्षा करते हुए कहा कि किसान की गेहूँ सुगमता के साथ खरीदा जाय। उन्होंने कहा कि जमीनी विवादों के मामले मे राजस्व अधिकारी सुस्पष्ट निस्तारण कराये कानून व्यवस्था के लिए पुलिस की मदद ले उप जिलाधिकारी, पुलिस क्षेत्राधिकारी, तहसीलदार संयुक्त बैठके करके जमीने विवादों के गुणवत्तापूर्ण निस्तारण कराये।

समीक्षा बैठक में राज्य लमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), बेसिक शिक्षा विभाग/सोनभद्र जिले के प्रभारी मंत्री डॉ0 सतीश चन्द्र द्विवेदी के आलावा सासंद पकौड़ी लालकोल, जिलाध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी अजीत चौबे, जिलाध्यक्ष अपना दल सत्यनारायन सिंह पटेल, विधायक घोरावल डाक्टर अनिल कुमार मौर्य, विधायक राबर्ट्सगंज भूपेश चौब, विधायक दुद्धी हरिराम चेरो, जिलाधिकारी अभिषेक सिंह, पुलिस अधीक्षक अमरेन्द्र प्रसाद सिंह, प्रभागीय वनाधिकारी संजीव कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी योगन्द्र बहादुर सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 नेम सिंह, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ0 के कुमार, उप जिलाधिकारी सदर डॉ0 कृपा शंकर पाण्डेय , जिला विकास अधिकारी रामबाबू त्रिपाठी, जिला पंचायतराज अधिकारी, विशाल सिंह सहित अन्य सम्बन्धितगण मौजूद रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!