शहादत दिवस पर याद किए गए भारतरत्न राजीव गांधी

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । जिला कांग्रेस कमेटी के सभागार में आज भारतरत्न पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 30वीं पुण्यतिथि शहादत दिवस के रूप में मनाई गई। इस दौरान उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की गई।जिलाध्यक्ष रामराज गोंड़ ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी ने समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को पंचायत के माध्यम से विकास व खुशहाली प्रदान की। 18 वर्ष के युवाओं को मत का अधिकार देकर सशक्त भारत के निर्माण में योगदान दिया।तत्पश्चात कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने शोभनाथ मंदिर के समीप स्थित कोलान बस्ती एवं साईं अस्पताल में मास्क, फल व भोजन का वितरण किया।इस मौके पर प्रभारी प्रदेश सचिव राजन दूबे, कमलेश ओझा, अरविन्द कुमार सिंह, नामवर सिंह कुशवाहा, जितेन्द्र पासवान, राजीव त्रिपाठी, अमरेश देव पांडेय, विमला देवी, सीता राय, निर्भया, कन्हैया पाण्डेय, शिव प्रसाद, देवेन्द्र शर्मा, प्रदीप चौबे, वंशीधर देव पांडेय, विकास श्रीवास्तव, प्रान्जल श्रीवास्तव, प्रवीण, विनोद पाठक आदि ने कार्यकर्तागण मौजूद रहे।

संचार क्रांति व पंचायती राज के जनक से राजीव गांधी – “आशु”वहीं यूथ कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष आशुतोष कुमार दुबे “आशु” ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं दीपक कोहली, श्रीकांत मिश्रा, सूरज वर्मा ,ऋषि कुमार, अनिल के साथ मिलकर पूर्व पीएम भारतरत्न राजीव गांधी की पुण्यतिथि के अवसर पर कोरोना-19 हेल्पलाइन नं0 9616460060 जारी किया व आमजनमानस में जनजागरुकता के तहत लोगों को मास्क भी वितरण किया तथा नगर के वार्ड नं0 7 में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।आशु दुबे ने कहा कि वो सिर्फ एक दौर नहीं पूरा जमाना था, जब हर कोई राजीव गाँधी जी का दीवाना था। स्वभाव से गंभीर लेकिन आधुनिक सोच और निर्णय लेने की अद्भुत क्षमता वाले स्व0राजीव गांधी जी देश को दुनिया की उच्च तकनीकों से पूर्ण करना चाहते थे। वे बार-बार कहते थे कि भारत की एकता और अखंडता को बनाए रखने के साथ ही उनका अन्य बड़ा मक़सद इक्कीसवीं सदी के भारत का निर्माण करना है। अपने इसी सपने को साकार करने के लिए उन्होंने देश में कई क्षेत्रों में नई पहल की, जिनमें संचार क्रांति और कम्प्यूटर क्रांति, शिक्षा का प्रसार, 18 साल के युवाओं को मताधिकार, पंचायती राज आदि शामिल हैं। वो देश की कम्प्यूटर क्रांति के जनक के रूप में भी जाने जाते हैं।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!