ग्राम पंचायतों में बनाए जाएंगे कोविड केयर सेंटर

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । कोविड के मरीजों के इलाज के लिए अब ग्राम पंचायत स्तर पर कोविड केयर सेंटर, हैल्थ सेंटर और हॉस्पिटल बनाए जाएंगे। इन सेंटरों पर केवल कोविड के मरीजों का इलाज किया जाएगा। शासन ने यह व्यवस्था ग्रामीण इलाके में कोविड के मरीजों की बढ़ती हुई संख्या के मद्देनजर किया है।
कोविड के दूसरी लहर ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों में भी पांव जमा लिया है। इसको लेकर शासन की नींद हराम हो गयी है। ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों में कोविड-19 के बढ़ते मामलों को नियंत्रित करने के लिए इन क्षेत्रों में कोविड आधारित सेवाएं और प्राथमिक स्तर की स्वास्थ्य सेवाएँ उपलब्ध कराने का फैसला किया गया है। अब ग्रामीण स्तर पर कोविड केयर सेंटर, हैल्थ सेंटर और हॉस्पिटल बनाने की योजना तैयार की गयी है। इन हेल्थ सेंटरों में ग्रामीण स्तर पर फ्रंटलाइन वर्कर ही कार्य करेगें। अभी भी फ्रंट लाइन वर्कर ग्रामीण इलाके में सर्दी- जुकाम, खांसी, बुखार इत्यादि लक्षण मिलने वाले व्यक्तियों की स्क्त्रीनिंग कर उन्हें मेडिकल किट उपलब्ध करा रहे है। इसी को व्यवस्थित स्वरूप देने के लिए ग्रामीण इलाके के पंचायत भवन या स्कूल, कम्युनिटी हाल, शादी घर में 30 बेड की व्यवस्था की जाएगी। इस सेंटर को नज़दीकी स्वास्थ्य केंद्र से भी जोड़ दिया जाएगा। इस सेंटर में बिना लक्षण और हल्के लक्षण वाले कोविड उपचाराधीन को रखा जाएगा। यह एक तरह का आइसोलेशन वार्ड होगा, जिन गाँव के घरों में आइसोलाशन की व्यवस्था नहीं होगी, उन मरीजों को यहाँ रखा जाएगा। यहाँ उपचाराधीन लोगों की सांस संबंधी समस्या और ऑक्सिजन स्तर की निरंतर मानिटरिंग की जाएगी। जिन रोगियों को मामूली लक्षण हो उन्हे 10 दिन बाद आइसलैशन से बाहर आने की इजाजत दी जाएगी। अगर तीन दिन तक उन्हे बुखार न आए।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!