ईद की खुशियों पर कोरोना का साया बाजारों में रहा सन्नाटा

घनश्याम पाण्डेय/विनीत शर्मा(संवाददाता)

चोपन। कोरोना महामारी के चलते लॉक डाउन का दौर है इस बीच ईद का त्यौहार है लेकिन बाजारों में रौनक गायब है चारों तरफ सन्नाटा पसरा हुआ है। लाक डाउन की बंदिशो ने त्यौहार को फीका कर दिया है हालांकि तमाम लोगों ने ईद के त्यौहार को सादगी से मनाने का फैसला किया और रमजान के 30 रोजों के बाद खुशियों की नई सौगात लेकर आने वाला ईद उल फितर यानी ईद का त्योहार आज समूचे देश में पूरी अकीदत व एहतराम के साथ मनाया जा रहा है जिसको लेकर चोपन नगर में भी सभी लोगो ने ईद की नमाज को अपने ही घरों में अदा की। हालांकि इस बार के भी त्यौहार पर कोरोना की महामारी और लाक डाउन की बंदिशों का असर साफ तौर पर देखने को मिल रहा है स्थानीय क्षेत्र में हमेशा ईद से पहले बाजार भीड़भाड़ से गुलजार रहते थे सड़कों पर खासी चहल-पहल रहती थी। लेकिन इस बार भी बाजार लाक हैं ,जेबे डाउन है और कोरोना का कहर ईद की खुशियों में खलल डाल रहा है स्थानीय बाजार पिछले एक महीने से बंद है। वैसे स्थानीय क्षेत्र के लोगों ने काफी पहले ही यह तय कर लिया था कि इस बार भी ईद का त्यौहार वह सादगी के साथ मनाएंगे घरों पर ही नमाज अदा करेंगे और किसी तरह का जश्न व दावत नहीं करेंगे। स्थानीय क्षेत्र के कारोबारियों को इस बार भी दोहरा नुकसान उठाना पड़ा है एक तो उनका कारोबार पिछले 1 महीने से पूरी तरह से ठप है और दूसरा ईद का बड़ा मौका भी उनके हाथ से निकल गया है कहा जा सकता है कि ईद की खुशियों पर पिछले साल की तरह इस बार भी कोरोना का असर साफ तौर पर नजर आ रहा है खरीदारों में उत्साह नहीं है कारोबारी मायूस है और हर कोई कोरोना का कहर जल्द से जल्द खत्म होने की दुआएं मांग रहा है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!