बरवाखाड़ में नवनिर्वाचित प्रधान की करतूत आयी सामने, जीत की पार्टी देने के लिए करा दिया गौकशी

पी0 के0 विश्वकर्मा (संवाददाता)

– पुलिस ने नव निर्वाचित प्रधान समेत 5 लोगों पर दर्ज किया मुकदमा

– शपथ लेने के पहले नव निर्वाचित प्रधान पहुंचे सलाखों के पीछे

– विश्व हिंदू महासंघ के जिलाध्यक्ष ने कहा कि दोबारा चुना जाय स्वच्छ छवि का जनप्रतिनिधि

कोन । कोरोना काल में हुए चुनाव के बाद अब जश्न का दौर शुरू हो गया है । जबकि कोर्ट ने साफ कहा था कि जीत के बाद कोई भी जुलूस व जश्न न होने पाए । लेकिन बीती रात विकास खण्ड कोन, के स्थानीय थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत बरवाखाड़ में उस समय हड़कम्प मच गया जब ग्रामीणों को पता चला कि निवर्तमान प्रधान द्वारा दावत दिया जा रहा है और इसके लिए कुरधन पहाड़ी के पास अकरम के घर मे गौकशी की जा रही है । इस सूचना के बाद गांव के लोगों में जबरदस्त गुस्सा फूट पड़ा वे तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी । बात धीरे-धीरे हिन्दू संगठनों तक जा पहुंचा, जिसके बाद यह मामला और तेज पकड़ लिया । रात में ही पुलिस ने कुछ लोगों को उठाकर थाने ले आयी ।

पुलिस अधीक्षक में बताया कि निवर्तमान प्रधान द्वारा जीत की खुशी में यह दावत दी जा रही थी। उन्होंने बताया कि कोन पुलिस ने मौके से प्रतिबंधित मांस के अलावा औजार बरामद किया है । उन्होंने बताया कि गौकशी व पशु क्रुरता अधिनियम के तहत नवनिर्वाचित प्रधान रुक्नुद्दीन, अकरम अली, साहेबजान, नजमुल हसन, रहीश मुहम्मद के खिलाफ गौकशी का मुकदमा दर्ज किया गया है।

इस मामले में राम कुमार जायसवाल जिलाध्यक्ष, विश्व हिंदू महासंघ ने कहा कि ऐसा जनप्रतिनिधि जो शपथ लेने के पहले जेल की सलाखों के पीछे चला जाय, उसे पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं । उन्होंने प्रशासन से मांग की है कि बरवाखाड़ गांव का चुनाव आगमी दिनों में होने वाले मतदान के साथ करा लिए जाय ।

इस मौके पर हरिशंकर वर्मा, मंडल अध्यक्ष सुनील जायसवाल, सुशील जायसवाल राकेश तिवारी वाचस्पति तिवारी नन्दलाल समेत दर्जनों विश्वहिंदू व बजरंग दल के कार्यकर्ता मौजूद रहे ।

बहरहाल पुलिस ने तो अपनी कानूनी कार्यवाही कर दी लेकिन बड़ा सवाल यह है कि एक जनप्रतिनिधि जो अभी कुछ दिनों पूर्व ही जनता के वोट व आशीर्वाद से जीता वह गैर कानूनी कृत्यों के कारण गिरफ्तार कर लिया गया और शपथ ग्रहण के पूर्व जेल जाने के मुहाने पर खड़ा है ।

तो सवाल यह उठता है कि ऐसा जनप्रतिनिधि जो लोगों से प्रतिबंधित कार्य कराये, क्या वह इस पद पर बने रहने का हकदार है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!