होम आईसोलेशन के मरीजों को उपलब्ध कराया जाये मेडिकल किट- जिलाधिकारी

दीनदयाल शास्त्री (ब्यूरो)

पीलीभीत । जिला अधिकारी के निर्देशन वैश्विक महामारी कोविङ -19 के संक्रमण के दृष्टिगत यह अत्यावश्यक है कि जनपद में जो मरीज होमआईसोलेशन में हैं, उनको तत्काल सम्बन्धित दवाईयां ( मेडीकल किट ) उपलब्ध हो जाये, अधोहस्ताक्षरी के संज्ञान में यह तथ्य आये हैं कि सम्बन्धित एम ओ आई सी (चिकित्सा प्रभारी) व आर आर टी (रेपिड रिस्पांस टीम) टीम द्वारा उक्त कार्य में शिथिलता बरती जा रही हैं जबकि शासन की यह प्राथमिकता है कि कोरोना संक्रमित प्रत्येक व्यक्ति जो होम आईसोलेशन की अवधि व्यतीत कर रहा है , उनको सम्बन्धितों द्वारा ससमय दवाईयां (मेडीकल किट) उपलब्ध करा दी जाये । अतः शासन की मंशानुसार प्रत्येक होम आईसोलेटेड व्यक्ति को तत्काल एम ओ आई सी ( चिकित्सा प्रभारी ) व आर आर टी (रेपिड रिस्पांस टीम) के माध्यम से दवाईयां (मेडीकल किट) उपलब्ध कराये जाने हेतु निम्नवत् अपर मुख्य चिकित्साधिकारियों को नोडल अधिकारी नामित किया गया है।
चिकित्सक का मोबाईल पदनाम आवंटित क्षेत्र विकास खण्ड नाम डॉ0 आर0 बी0 सिंह अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, पीलीभीत । 9557056613
डॉ पी0 के0 मिश्रा अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, पीलीभीत । 9412531647 न्यूरिया (मरौरी) मरौरी
डॉ अश्वनी गुप्ता अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, ललौरीखेड़ा ललौरीखेड़ा पीलीभीत । 9759336966 तथा अमरिया अमरिया बरखेडा, बरखेड़ा डॉ० सी एम अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, 941228765 चतुर्वेदी पीलीभीत । डॉ हरपाल सिंह अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, 9412427418 पीलीभीत । पूरनपुर पूरनपुर उपरोक्त नामित अपर मुख्य चिकित्साधिकारी प्रतिदिन प्रातः 09-00 बजे ( लइण्टीग्रेटेड कोविड कमाण्ड सेन्टर, में एकत्रित होकर वहां उपलब्ध दूरभाष नम्बरों के माध्यम से अपने – अपने विकास खण्ड क्षेत्रान्तर्गत कोरोना संक्रमित होम आईसोलेटेड मरीजों से वार्ता कर यह सुनिश्चित करेगें कि प्रत्येक होमआईसोलेटेड मरीज को सम्बन्धित एम ओ आई सी ( चिकित्सा प्रभारी ) व आर आर टी (रपिड रिस्पांस टीम) द्वारा दवाईयां ( मेडीकल किट ) को उपलब्ध करा दी गई है । साथ ही वार्ता में यदि कोई ऐसा मरीज पाया जाये जिसको दवाईयां प्राप्त न हुयी हों तो सम्बन्धित एम 0 ओ 0 आई0 सी0 (चिकित्सा प्रभारी) व आर0 आर0 टी0 (रैपिड रिस्पांस टीम) टीम के माध्यम से उक्त मरीज को तत्काल नियमानुसार दवाईयां ( मेडीकल किट ) उपलब्ध कराई जाये । सम्बन्धित नोडल अधिकारी उक्त कार्य का अभिलेखीकरण कर यह सुनिश्चित करायेगें कि उनके द्वारा प्रत्येक दिन कुल कितने मरीजों से वार्ता की गई , कितने मरीजों को सम्बन्धितों द्वारा दवाईयां वितरित की गयीं तथा कितनें मरीजों को दूरभाष पर सम्बन्धित से वार्ता कर तत्काल दवाईया दिलाई गई हैं । उपरोक्त नामित सभी नोडल अधिकारी अपने – अपने विकास खण्ड के सभी संक्रमित मरीजों को दवाईयां प्राप्त होने के पश्चात ही कोविड कमाण्ड सेन्टर से प्रस्थान करेगें । जिला विकास अधिकारी / नोडल अधिकारी Iccc ( इण्टीग्रेटेड कोविड कमाण्ड सेन्टर ) उपरोक्त पूर्ण प्रक्रिया का सम्बन्धित द्वारा पालन कराये जाने हेतु उत्तरदायी होगें । अधोहस्ताक्षरी द्वारा औचक रूप से चैकिंग करने पर यदि किसी मरीज द्वारा दवाईयां (मडीकल किट) न मिलने के तथ्य संज्ञानित होते हैं तो सम्बन्धित नोडल के विरूद्ध कठोर कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी । उपरोक्त वर्णित नोडल अधिकारियों, नोडल अधिकारी कोविड कन्ट्रोल रूम तथा मुख्य चिकित्साधिकारी पीलीभीत द्वारा संयुक्त्त हस्ताक्षर से अधोहस्ताक्षरी को दैनिक रूप से उपरोक्त के सम्बन्ध में प्रमाण पत्र उपलब्ध कराया जायेगा । उपरोक्त नामित किसी अधिकारी के स्थानान्तरण, अवकाश अथवा कोविड -19 से संक्रमित हो जाने की दशा में उनके प्रतिस्थानी/लिंक अधिकारी द्वारा उक्त कार्यों का निर्वहन किया जायेगा । यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू किया गया।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!