कल से गांव-गांव तलाशे जाएंगे कोरोना मरीज

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

5 मई से 9 मई तक चलेगा कोरोना मरीज खोजी अभियान

सोनभद्र । त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना निपट गई। अब प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के लिए गांव-गांव में कोरोना मरीजों की तलाशना बड़ी चुनौती बनेगा। स्वास्थ्य विभाग 5 मई से 9 मई तक गांव-गांव में आशाओं के माध्यम से कोरोना मरीजों की तलाश करेगा और लक्षण युक्त मरीजों की नजदीकी सरकारी अस्पताल में जांच कराया जाएगा।

शहरी इलाकों के बाद ग्रामीण इलाकों में जांच का दायरा बढ़ाया जा रहा है। इसके तहत 5 मई से चलने वाले अभियान में गांव में लोगों की जांच की जाएगी। पंचायत चुनाव के कारण विभिन्न महानगरों से लौटे लोगों पर खास निगाह रहेगी। जरूरत के मुताबिक लोगों का सैंपल आरटी-पीसीआर के लिए भेजा जाएगा।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की निगरानी में स्वास्थ्य कर्मी आशा कार्यकर्ता और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की रैपिड रिस्पांस टीम (आरआरटी) गांव-गांव जाएंगी। एंटीजन टेस्ट में जो ग्रामीण कोरोना संक्रमित पाया जाएगा, उसका गांव में ही तत्काल इलाज शुरू किया जाएगा। कोरोना संक्रमित ग्रामीण को इलाज के लिए दवाई वाली एक कोविड किट और आयुष काढ़ा भी दिया जाएगा।

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दौरान कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ी थीं। समझाने के बाद भी प्रत्याशियों व उनके समर्थकों ने भारी संख्या में एकत्रित होकर प्रचार-प्रसार किया। इसके बाद मतदान और मतगणना वाले दिन सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ीं। इसके बाद शासन स्तर से पांच दिवसीय जांच अभियान चलाने का आदेश हुआ है।

अभियान के बारे में बताते हुए जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ0 प्रेमनाथ ने बताया कि “शासन से प्राप्त निर्देशानुसार 5 मई से 9 मई तक ग्रामीण स्तर पर कोविड मरीज खोजे जाएंगे। इसके लिए 1528 टीमें बनायी गयी हैं। इस अभियान के तहत आशाएँ एक दिन में 50 घरों का विजिट करेंगी, इस दौरान उन्हें जो लक्षण युक्त मरीज मिलेंगे उनकी नजदीकी अस्पताल से जाँच कराएँगी और जो पॉजिटिव पाया जाएगा उन्हें होम आइसोलेट करते हुए मेडिकल कीट भी उपलब्ध कराएंगी।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!