कोरोना का महाकुम्भ पर दिखने लगा असर, फीकी शुरुआत

कोरोना संकट के बीच उत्तराखंड के हरिद्वार में महाकुंभ की शुरुआत फीकी दिखी । हरि की पैड़ी में श्रद्धालुओं की संख्या हर बार की तुलना में काफी कम नजर आ रही है । कोरोना संकट के बीच कुछ लोग मास्क लगाए नजर आए तो कुछ सुरक्षा के नियमों से लापरवाह दिखे ।कोरोना वायरस के मद्देनजर राज्य में इस महाआयोजन को लेकर नियम काफी सख्त किए गए हैं । बिना कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट वालों को स्नान की इजाजत नहीं है।

आज से शुरु हुए कुंभ में उन्हीं लोगों को एंट्री दी जाएगी, जो 72 घंटे पहले की कोरोनावायरस आरटीपीसीआर टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट दिखाएंगे । जिन लोगों को कोरोना वायरस वैक्सीन लग चुकी है, अगर वे अपना सर्टिफिकेट दिखाते हैं तो उन्हें छूट मिल सकती है । इतना ही नहीं, उत्तराखंड को जोड़ने वाले सभी रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट और बॉर्डर की चौकियों पर रैंडम टेस्टिंग का आदेश दिया गया है ।

राज्य सरकार भले ही महाकुंभ का आयोजन बड़े पैमाने पर कर रही हो लेकिन कोरोना के बीच लोगों का लापरवाह रवैया प्रशासन के सामने कड़ी चुनौती पेश कर रहा है । रेलवे स्टेशन और अन्य जगहों पर टेस्टिंग के इतंजाम किए गए हैं लेकिन कई बार ऐसे मामले सामने आए हैं जब लोग स्टेशन से उतरने के बाद सुरक्षाकर्मियों की बातों को अनदेखा कर कोरोना जांच में शामिल नहीं होते हैं ।

उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने हाल ही में कहा था कि आयोजन स्थल पर श्रद्धालुओं को बिना रोक टोक आने दिया जाए. इस ऐलान के बाद वह खुद भी कोरोना संक्रमित हो गए थे । सीएम तीरथ सिंह रावत के इस फैसले को उत्तराखंड हाईकोर्ट ने पलट दिया था । कोर्ट ने कहा था कि कुंभ मेले में आने वाले लोगों की कोरोना जांच की जाए और उसके बाद ही इन लोगों को आयोजन में शामिल होने की अनुमति दी जाए ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!