फर्जी पट्टा निरस्त होने से ग्रामीणों में हर्ष

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

प्रतीकात्मक तस्वीर

सोनभद्र । म्योरपुर ब्लाक के काचन गांव में फर्जी पट्टा मामले में प्रशासन द्वारा करायी गयी जांच के बाद प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर पट्टे को खारिज कर दिया गया है। एडीएम योगेंद्र बहादुर सिंह ने बताया कि जांच में यह तथ्य सामने आया था कि जिसके नाम से पट्टा हुआ है वह उस गांव का निवासी ही नहीं है। उन्होंने कहा कि अब पट्टा कैसे गलत आवंटित हुआ इसकी जांच कराए जाने के लिए लिखा गया है । उन्होंने ने भी माना चूंकि जमीन का असंक्रमणीय होना कोई सामान्य बात नहीं, इसकी जांच होनी चाहिए ताकि इस तरह के खेल करने वाले बेनकाब हो सकें।

उधर पट्टा निरस्त होने से गांव के लोगों में खुशी देखी जा रही है। लोगों का कहना है कि पट्टा तो निरस्त हो गया लेकिन अब तक दोषियों के खिलाफ कार्यवाही नहीं हुई। लोगों का यह भी कहना है कि यदि सही तरीके से जांच हुई तो कई बड़े भू-माफियाओं के नाम सामने आ सकते हैं जो जिले में इस तरीक़े से काम करते हैं।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!