विभिन्न दलो के छात्रों ने छात्र संघ के लिए किया नामांकन

कृपाशंकर पाण्डेय(संवाददाता)

ओबरा। पीजी कॉलेज में हो रहे छात्र संघ चुनाव को लेकर छात्रों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है। शुक्रवार को छात्र संघ चुनाव के नामांकन में सभी परिषद समर्थित उम्मीदवारों ने अपना दमखम दिखाया।

सपा समर्थित अध्यक्ष पद के उम्मीदवार राजेश उर्फ राका ने नामंकन की रैली में छात्रों को एकत्रित कर दमखम दिखाया। वही विश्व की सबसे बड़ी छात्रों की संगठन अखिल विद्यार्थी परिषद के पैनल से खड़े सभी उम्मीदवारों ने एक जुटता का परिचय देते हुए अध्यक्ष के लिए कुंवर चतुर्वेदी, उपाध्यक्ष के लिए मनमोहन ,महामंत्री के लिए पवित्र जायसवाल व पुस्तकालय मंत्री के लिए अमन खान उर्फ मार्टिन ने नामांकन दाखिल किया।

नामांकन के लिए सभी संगठनों ने भव्य रैली निकाली। ABVP की रैली रॉबर्ट्सगंज, चोपन से होते हुई कॉलेज के पास पहुँची। ABVP से अध्यक्ष के लिए कुंवर चतुर्वेदी, उपाध्यक्ष के लिए मनमोहन और महामंत्री के लिए पवित्र जायसवाल ने अपने बड़ों का आशीर्वाद लिया और मंदिर में माथा टेक कर जितने के लिए प्रार्थना किया। ABVP के पैनल से लड़ने वाले सभी प्रत्याशियों को लोगो ने माला पहनाकर अपना आशीर्वाद दिया। छात्र हित में बात करने वाली और छात्रों में राष्ट्रवाद की अलख जगाने वाली अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की रैली से ही अंदाजा लगाया जा सकता था कि प्रत्याशी पूरी तैयारी के साथ चुनाव लड़ रहे है।

ABVP के समर्थन में बीजेपी के बड़े पदाधिकारी भी शामिल रहे। जिसमे पूर्व जिला अध्यक्ष अशोक मिश्रा, जिला महामंत्री रामसुंदर निषाद, चोपन मंडल अध्यक्ष सुनील सिंह, धर्मेंद्र जायसवाल के साथ कई पूर्व छात्र नेता रैली में शामिल हुए। वही प्रत्याशियों का कहना है कि छात्रों की हित की बात उठाने के लिए और उनको कॉलेज में मिलने वाली तमाम सुविधाओं को दिलाने के लिए हम छात्र संघ के चुनाव मैदान में उतरे है। जितने के बाद छात्रों को कॉलेज में कोई समस्या नहीं होगी।

कॉलेज प्रधानाचार्य ने बताया कि जो छात्रों ने नामांकन किया है उनके पूरे डॉक्यूमेंट की जांच की जा रही है। उनको और उनके प्रस्तावक को ही परिसर में आने की अनुमति है। लगभग 3500 छात्र वोट है।
छात्रों के साथ-साथ छात्राओं ने भी विभिन्न पदों के लिए नामांकन दाखिल किया। जो भी हो छात्र संघ चुनाव होने से कॉलेज में छात्रों की हित के मुद्दे उठ जाते है और कॉलेज प्रशासन भी उनकी समस्याओं का समाधान करने के लिए बाध्य हो जाते है नहीं तो कॉलेज प्रशासन अपना मनमाना रवैया अपनाते है। इसीलिए छात्र चुनाव होने चाहिए।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!