गंगासागर की दुर्दशा देखकर दुख होता है, सरकार बनी तो गंगासागर तक गंगा के जल को निर्मल किया जाएगा- अमित शाह

अमित शाह ने गंगासागर में कपिल मुनि मंदिर में पूजा अर्चना की । यहां केंद्रीय गृहमंत्री करीब 15 मिनट तक रुके । उन्होंने कहा कि गंगासागर की दुर्दशा देखकर दु:ख होता है । उन्होंने दावा किया कि यदि बंगाल में उनकी सरकार बनी, तो नमामि गंगे परियोजना के तहत गंगासागर तक गंगा के जल को निर्मल किया जाएगा ।
गंगासागर पहुंचे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि नमामि गंगे परियोजना बंगाल में आकर रुक गई है। उन्होंने यह भी कहा कि गंगासागर की दुर्दशा देखकर उनको दुख होता है, साथ ही दावा किया कि उनकी सरकार बंगाल में बनती है, तो गंगासागर में पर्यटन को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विकसित किया जाएगा । नमामि गंगे परियोजना के तहत गंगासागर तक गंगा के जल को निर्मल किया जाएगा ।

इसके बाद मीडिया से बात करने के दौरान उन्होंने कहा कि मेरे लिए बड़े सौभाग्य की बात है कि मैं गंगासागर में समुद्र का दर्शन और जहां मां गंगा समुद्र में विलीन होती हैं उस जगह पर हूं ।यहां पर कपिल मुनि का मंदिर सदियों से अध्यात्म और प्रकृति के संरक्षण का प्रतीक बना हुआ है। इसीलिए कहते हैं कि हर तीर्थ बार-बार गंगासागर एक बार । हमारे पुराणों के अनुसार महाराज भगीरथ अपने 60,000 पूर्वजों के मोक्ष के लिए मां गंगा को हिमालय की गोद से लेकर गंगासागर तक आए ।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में गंगोत्री से गंगासागर तक गंगा के शुद्धिकरण का नमामि गंगे कार्यक्रम चला, मगर वह बंगाल अगर रुक जाता है। मुझे पूरा भरोसा है कि यहां पर भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनेगी, तब बंगाल में गंगासागर तक भी नमामि गंगे पूरा होगा । मां गंगा को शुद्ध और प्रदूषण मुक्त कर निर्मल जल का आशीर्वाद लोग ले सकें, ऐसे जल का आस्वाद भारतीय जनता पार्टी को मिलेगा । यहां की स्थिति देखकर लाखों श्रद्धालुओं की तरह मुझे भी दुख होता है । हम सुनिश्चित करेंगे कि हमारी सरकार यहां पर बनने के बाद केंद्र सरकार की जितनी भी टूरिज्म की नीतियां हैं यहां पर लागू करे और उत्तरायण का मेला जो यहां लगता है उसको अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थान दिया जाए।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!