मां सरस्वती के आराधना कर मांगा ज्ञान का वरदान

मनोहर कुमार

डीडी यू नगर। विद्या की देवी मां सरस्वती की पूजा अर्चना मंगलवार को नगर सहित आस पास के ग्रामीण इलाकों में परम्परागत तरीके से धूमधाम से मनाया गया। पूजा पंडालों व स्कूलों कालेजों में वैदिक मंत्रोच्चार के बीच छात्र छात्राओं ने मां वीणा वादिनी की पूजा अर्चना की। मां से ज्ञान का वरदान मांगा।
बसन्त पंचमी का दिन मां सरस्वती को समर्पित होता है। मां सरस्वती ज्ञान और वाणी की देवी हैं। यह दिन विद्यार्थियों के लिए बेहद अहम होता है। मंगलवार को नगर सहित ग्रामीण इलाकों में पंडालों व स्कूल कालेजों में सरस्वती मां की प्रतिमा स्थापित की गई। जहां विधि-विधान के साथ पूजा गई है। मान्यता है कि वसंत पंचमी के दिन ही देवी सरस्वती प्रकट हुई थीं। इसलिए इस दिन ही सरस्वती मां का प्राकट्य दिवस मनाया जाता है। कहा जाता है कि अगर इस दिन विधिपूर्वक मां सरस्वती की पूजा की जाए तो वो अपने भक्तों को बुद्धि और विद्या का वरदान देती हैं। साथ ही अपने भक्तों पर सदा कृपा बनाए रखती हैं। मां सरस्वती रचनात्मक ऊर्जा और शक्ति का प्रतीक है।
प्रत्येक साल माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन मां सरस्वती की पूजा के दौरान उनके श्लोकों का जाप किया जाता है। साथ ही उनकी वंदना और गीत भी गाए जाते हैं।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!