जंगली जानवरों का रिहाइशी इलाकों में रुख करने से लोगों की चिंताएं बढ़ी

राहुल शुक्ला (संवाददाता)

खुटार (शाहजहांपुर) । इन दिनों जंगली जानवर जंगल छोड़ अबादी की तरफ रुख करने से क्षेत्र के लोगों में दहशत व्याप्त है। बताया जा रहा है खुटार तथा मैलानी क्षेत्र के जंगली सीमाओं से सटे आबादी वाले इलाकों में जंगली जानवर देखे जा रहे हैं । साथ ही उनके पदचिन्ह के निशान भी कई जगहों पर मौजूद हैं । कुछ दिनों पहले एक जेसीबी संचालक ने खुटार क्षेत्र के बरबटपुर जंगल के पास गांव राठ व गेहुंआ के पास दो तेंदुआ को देखा व अपने मोबाइल के कैमरे से उसे कैद भी कर लिया । अपको बतादें कि इससे पहले भी इसी क्षेत्र में तेंदुएं को लोगों ने देखा है । लेकिन वह विभाग अभी तक इसकी पुष्टि नहीं कर सका । जबकि ग्रामीणो का कहना है कि हर बार वन विभाग को बताया जाता है लेकिन अभी तक प्रशासन कोई बीबी ठोस पहल नहीं कर सका है । लोगों का मानना है कि जंगली जानवर पानी की तलाश में भटक कर चले आते हैं । सबसे चिंता की बात यह है कि गरीब तबके के लोग जंगल लकड़ियां चुनने जंगल जाती हैं, ऐसे में बड़ा हमला होने की गुंजाइश बनी रहती है ।

वन रेंज अधिकारी डीएस यादव ने बताया कि नदियों पर कब्जा करना एवं उनका जल अवरुद्ध करना कानूनन अपराध तो है ही, यह प्रकृति के साथ बहुत बड़ा खिलवाड़ भी है जोकि वन्यजीवों समेत मनुष्यों पर भी भारी पड़ रहा है ।
हालांकि वन क्षेत्र के अंदर नदियां पूर्ण तरह से सुरक्षित हैं लेकिन वन क्षेत्र के बाहर दबंगों ने कब्जाकर उनको खेती में परिवर्तित कर दिया है, जिससे जल बहाव बंद हो गया है । उन्होंने बताया कि वन क्षेत्र के अंदर छोटे-छोटे जलाशय भी बनवाए गए हैं पानी पीने के लिए वन्यजीवों को किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं है ।

वन रेंज अधिकारी ने क्षेत्रीय जनता से अपील की है कि प्रतिबंधित वन क्षेत्र के अंदर ना जाएं तथा वन क्षेत्र के आसपास के खेतों में काम करते समय सावधानी बरतें।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!