सपा की महिला सिपाहियों ने तीन बार किया है जिपं अध्यक्ष पर कब्जा

मनोहर कुमार

* महिलाओं के लिए मुफीद रहा है अध्यक्ष पद

चार बार महिला रही हैं अध्यक्ष

चंदौली।धान के कटोरे के रूप में विख्यात चंदौली जनपद में एक बार फिर राजनीतिक बयार बहने लगी है।पंचायत चुनाव को लेकर गहमागहमी शुरू हो गई है।जनपद का पहला नागरिक होने का गौरव सबसे ज्यादा महिलाओं को रहा है।यहां से चार बार महिलाएं इस कुर्सी पर कब्जा जमा चुकी हैं। जिसमें सपा की महिला सिपाही सबसे आगे रहीं है।सपा ने तीन बार इस सीट पर कब्जा किया है। जिस पर तीनों महिलाएं शामिल हैं। आगामी चुनाव को लेकर उधेड़ बून जारी है।शासन ने जिला पंचायत अध्यक्ष पद का आरक्षण जारी कर दिया है।जिसके बाद राजनीति एक बार फिर गरम है।

धान के कटोरे के रूप में विख्यात चंदौली की सरजमीं पर अब फिर राजनीतिक बगिया लगाई जा रही है।पंचायत चुनाव को लेकर राजनीतिक तैयारी चल रही है। धान के कटोरे में जिले के प्रथम नागरिक का गौरव महिलाओं के लिए काफी मुफीद रहा है ।अब तक चार बार महिलाएं इस पद को सुशोभित कर चुकी है।जिनसे तीन बार सपा की महिला सिपाहियों ने कब्जा की है। सपा के लिए भी यहां की सीट काफी भाग्यशाली रही है।पिछली बार का चुनाव भी काफी उतार चदाव वाला रहा है।गौरतलब है कि चंदौली 1998 में जिला बना ।इसके बाद प्रथम जिला पंचायत अध्यक्ष सुषमा पटेल थीं। इसके बाद सन 2000 में हुए पहले जिला पंचायत अध्यक्ष के रूप में समाजवादी पार्टी की पूनम सोनकर बनीं। 2005 में सपा से ही अमलावती यादव जिला पंचायत अध्यक्ष बनीं। इसके बाद पहली बार जिला पंचायत की सीट सामान्य हुई और 2010 में बसपा से छत्रबली सिंह काबीज हुए। वहीं 2015 में एक बार फिर समाजवादी पार्टी की सरिता सिंह का बिज हुईं।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!