जिपं अध्यक्ष की आरक्षण सूची जारी होने के बाद राजनीति गरमाई, अब जिले में दिखेगा महिला सशक्तिकरण

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । इन दिनों पंचायत चुनाव की धूम है । पंचायत चुनाव को लेकर जिले के हर चौराहा-चट्टी पर नेताओं की भीड़ देखी जा सकती है । आज शासन ने पूरे प्रदेश के लिए जिला पंचायत अध्यक्ष पद हेतु आरक्षण सूची जारी कर दी है। आरक्षण सूची जारी होते ही लोगों के संपर्क व मिलना-जुलना शुरू हो गया। हालांकि अभी तक सदस्यों का आरक्षण सूची जारी नहीं हुआ है, इसलिए समीकरण बिठाने में नेताओं को दिक्कत हो रही है ।

सोनभद्र की बात करें तो आरक्षण के मुताबिक जिला पंचायत अध्यक्ष सीट अनारक्षित महिला है। महिला सीट आरक्षित होते ही यह साफ हो गया कि आगामी दिनों में जिले की प्रथम नागरिक महिला ही होगी।

ऐसा नहीं कि इसके पहले जिला पंचायत अध्यक्ष कोई महिला नहीं हुई। बसंती पनिका व अनिता राकेश भी अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठ चुकी हैं।

इस बार का हर पंचायती चुनाव बेहद अहम है, इसलिए हर पार्टी इसे बेहद गंभीरता से ले रहा। ऐसा माना जा रहा है कि यह चुनाव आगामी विधानसभा चुनाव का सेमीफाइनल है। भाजपा से लेकर अपना दल, आप, बसपा व सपा जैसी बड़ी पार्टियां लगातार इस चुनाव को लेकर मंथन करने में जुटी हुई है।

जल्द ही जिला पंचायतों के सदस्यों की आरक्षण सूची भी जारी हो जाएगी। जिसके बाद यह साफ हो पायेगा कि चुनाव लड़ने का ख्वाब देखने वाला कौन सीट के मुताबिक लड़ पायेगा।

इस समय दो लोगों के चेहरे पर तनाव दिखने लगा है। एक तो बोर्ड का समय सारणी जारी होने से छात्रों का तो वहीं दूसरा नेताओं का। जहाँ छात्रों के चेहरे पर तनाव अच्छे नम्बरों से पास होने का है तो वहीं नेताओं को अभी इस बात का तनाव है कि उनके मुताबिक आरक्षण सीट आएगी कि नहीं, पास-फेल की बात तो दूर है।

बहरहाल जल्द ही जिले की प्रथम नागरिक महिला बन जायेगी और सारा दायित्व भी सौंप दिया जाएगा। कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि जिले में महिला सशक्तिकरण एक बार फिर दिखने लगेगा।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!