फिर लगने लगा मारकुंडी में ट्रकों की लाइन, भीषण जाम से जनता परेशान, ट्रैफिक व्यवस्था चरमराई

जनपद न्यूज ब्यूरो

सोनभद्र । अवैध परिवहन पर रोक लगाने को लेकर तत्कालीन जिलाधिकारी एस राज लिंगम ने मजिस्ट्रेटों की तैनाती की थी, जिसके बाद पूरे जनपद में परिवहन माफियाओं में हड़कम्प मच गया था । लगातार सख्त चेकिंग से अवैध परिवहन पर काफी हद तक अंकुश भी लगा था । तत्कालीन जिलाधिकारी एस राज लिंगम का ज्यादातर फोकस मारकुंडी के नीचे खड़ी लोड ट्रकों पर था। उनकी सूचना के मुताबिक ओवरलोड ट्रक या बिना परमिट के चलने वाली ट्रकें मारकुंडी में खड़ी कर दी जाती हैं और पासरों द्वारा सूचना मिलने पर एक साथ पार होती हैं । यही कारण था कि श्री लिंगम ने ऑपरेशन 12 घण्टे का अभियान चलाया था, जिसका नेतृत्व एसडीएम को दी गयी थी ।
लेकिन एक बार फिर मारकुंडी के नीचे ट्रकों की लाइनें देखी जा सकती है। सवाल यह उठता है कि इन ट्रकों की वजह से लग रही भीषण जाम के लिए जिम्मेदार कौन है । क्योंकि ट्रैफिक पुलिस महज चौराहा या पुलिस लाइन तक ही सीमित है ।
लोगों का कहना है कि भले ही सोनभद्र में 4 लेन सड़क बन गयी हो लेकिन चोपन से लेकर रावर्ट्सगंज तक दोनों पटरियों पर ट्रकों व टिपरों का ही कब्जा रहता है । जिसकी वजह से सड़क की चौड़ाई कम हो गयी । यही कारण है कि सोनभद्र में सड़क दुर्घटना भी नहीं थम रही ।
आपको बतादें कि पूर्व सांसद छोटेलाल खरवार ने अवैध खनन व अवैध परिवहन पर कई बार मोर्चा खोला था लेकिन वर्तमान सांसद व विधायक इन सब मामलों में चुप्पी साधे रहते हैं । यही कारण है कि दुद्धी विधायक हरिराम चेरों ने यहां के सांसद विधायक के कार्यप्रणाली को लेकर गंभीर आरोप लगाया तो अब तक किसी की सफाई तक नहीं आ सकी।
इससे साफ है कि जनप्रतिनिधियों को भी पता है कि किन समस्या को कब और कहां उठाना है । क्योंकि कड़वा सच्चाई तो यह भी है कि राजनीति में यदि समस्या ही खत्म हो जाएगा तो मुद्दे में बचेगा क्या ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!