जमीन मालिक ने विद्युत विभाग के अधिकारियों पर लगाया जबरन भूमि कब्जा करने का आरोप

गौरव पाण्डेय (संवाददाता)

फरीदपुर तहसील के गांव पढेरा निवासी हरीशचन्द्र सिंह पुत्र रामपाल सिंह ने थाना कोतवाली फतेहगंजपूर्वी दी तहरीर में बताया कि उपरोक्त गांव में उल्लेखित पैतृक कृषि भूमि है। इस कृषि भूमि एक एकड़ भूमि में उन्होंने गेहूं की फसल कर रखी है। वहीं ग्राम पंचायत पढेरा स्थित एक अन्य भूमि पर कुछ दिन पूर्व में विद्युत विभाग के अधिकारियों द्वारा बिना किसी किसी पूर्व सूचना के विद्युत उपकेन्द्र निर्माण गया।

पीड़ित का आरोप है कि विद्युत विभाग के अधिकारियों ने पीड़ित की भूमि पर कब्जा करने का पूर्व भी कई बार प्रयास किये गए, जब इस बात के बारे में पीड़ित के भाई कृष्णपाल सिंह को पता चली कि विद्युत विभाग द्वारा उनकी भूमि पर कब्जा किया जा रहा, जिसके चलते पीड़ित के भाई कृष्णपाल सिंह सदमें में आ गए और जिसके चलते इसी सदमें में 31 जनवरी को उनकी दुखद मौत मौत भी हो गई।

पीड़ित का आरोप है कि 9 जनवरी को विद्युत विभाग की टीम के करीब दर्जन भर लोग पीड़ित की भूमि पर कब्जा करने पहुंच गये। पीड़ित ने यह भी आरोप लगाया है कि यह मामला कोर्ट में चल रहा है बावजूद इसके विद्युत विभाग के एसडीओ फरीदपुर, अपर अभियन्ता, अपर अभियन्ता, कानूनगो व लेखपाल सहित कई अन्य लोग पीड़ित के खेत पर अवैध रूप से कब्जा करने को पहुँच गये। विद्युत कर्मियों का कहना है कि नवीन उपकेन्द्र के लिये रास्ता नही है, इसलिये आपके खेत से होकर रास्ता बनाया जायेगा।

पीड़ित ने अपना खेत में जबरन रास्ता निर्माण न करने की गुजारिश की और अधिकारियो को बताया कि यह मामला जिला न्यायधीश कोर्ट में विचाराधीन है, और कोर्ट के फैसले के बाद ही यह निर्णय लिया जाएगा कि यहां रास्ते का निर्माण होगा अथवा नहीं, लेकिन अधिकारी जबरन खेत से रास्ता निकालने की कोशिश करने लगे । जिसके बाद पीड़ित ने 112 डायल पर फोन कर मामले की सूचना पुलिस को दी। पुलिस से शिकायत करने के बाद उपरोक्त विभागीय अधिकारी यह कहकर वहां से वापस चले आए कि कब तक रोकोगे एक न एक दिन हम रास्ता तो बना ही लेगे।
पीड़ित का यह भी आरोप है कि विद्युत विभाग के उपरोक्त अधिकारीयों के द्वारा धमकाए जाने के कारण पीड़ित के कृष्ण पाल सिंह मानसिक रूप तनाव में रहने लगे जिसके चलते उनकी उनकी मौत हो गई। पीड़ित का आरोप है कि उनकी मौत के जिम्मेदार विद्युत विभाग के अधिकारी ही हैं। इन्हीं लोगों के बार बार परेशान करने से वह मानसिक रूप से परेशान रहने लगे थे।

उपजिलाधिकारी फरीदपुर विशु राजा द्वारा उपरोक्त मामले में जांच के बाद 20 जून 2020 को जारी किए गए एक पत्र के माध्यम से जिलाधिकारी बरेली को यह अवगत कराया गया था कि आपत्ति करता द्वारा मामले में न्यायालय मुंसिफ कोर्ट फरीदपुर में विद्युत अवर अभियंता बरेली को पार्टी बनाकर वाद संख्या 31/2019 दर्ज कराया गया था। प्रकरण न्यायिक प्रक्रिया के अंतर्गत वर्तमान में विचाराधीन होने के कारण अन्य कोई भी कार्यवाही पृथक रूप से किया जाना न्यायोचित नहीं है। लेकिन बावजूद इसके विद्युत विभाग अधिकारियों द्वारा एक बार फिर पीड़ित की जमीन पर बिना कोर्ट के फैसले के जबरन कब्जा कर रास्ते का निर्माण करने का प्रयास किया गया है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!