पूर्व सेना प्रमुख वी के सिंह के बयान पर चीन का पलटवार, कहा- भारत अनजाने में ही माना एलएसी उल्लंघन करने की गलती

केंद्रीय परिवहन राज्य मंत्री और पूर्व सेना प्रमुख वी के सिंह के एक बयान के कारण चीन को भारत पर निशाना साधने का मौका मिल गया है । जनरल वीके सिंह ने रविवार को कहा था कि भारत ने चीन की तुलना में ज्यादा बार लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल यानी एलएसी का उल्लंघन किया है। चीन ने वीके सिंह के बयान को लपक लिया और कहा कि भारत ने अनजाने में ही अपनी गलती मान ली है कि वो लगातार एलएसी का उल्लंघन करता रहा है ।

सोमवार को चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने जनरल वीके सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ”ये भारत की तरफ से अनजाने में मानी गई गलती है । भारत लंबे समय से सीमा का उल्लंघन कर रहा है और यह चीनी सीमा में अतिक्रमण की तरह है । इससे लगातार तनाव की स्थिति पैदा होती है । भारत-चीन सीमा पर कलह की जड़ यही है । मैं भारत से अनुरोध करूंगा कि वो सीमा समझौतों का पालन करे ताकि सरहद पर शांति और स्थिरता बनी रहे।”

जनरल वीके सिंह की यह टिप्पणी भारत की आधिकारिक लाइन से बिल्कुल अलग है। पिछले साल जून महीने में लद्दाख की गलवान वैली में भारत के 20 सैनिक चीन सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में शहीद हो गए थे । चीन के सैनिकों के मारे जाने की भी बात कही गई लेकिन अब तक संख्या नहीं पता चल पाई । विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कई बार स्पष्ट रूप से कहा है कि भारत ने कभी भी एलएसी का उल्लंघन नहीं किया।”

अनुराग श्रीवास्तव ने 25 जून को कहा था, ”भारतीय सैनिक वास्तवित नियंत्रण रेखा को पूरी तरह से समझते हैं और इसका पालन भी करते हैं । हमारे सैनिक गलवान वैली समेत एलएसी पर पट्रोलिंग करते रहे हैं । भारत ने एलएसी के पास जो भी निर्माण कार्य किया है वो अपने हिस्से में किया है । भारत ने एलएसी के पार कभी कोई कार्रवाई नहीं की ।भारत ने एलएसी पर कभी भी एकतरफा यथास्थिति को बदलने की कोशिश नहीं की ।”

रविवार को वीके सिंह ने दावा किया कि पहले चीनी सेना भारतीय सीमा के भीतर कैंप बना लेते थे और बातचीत के बाद आंशिक रूप से पीछे हटते थे ।लेकिन वर्तमान सरकार ने इसे सुनिश्चित किया है कि दोबारा चीन ऐसा नहीं कर सके । चीन अभी दबाव में है। चीन अब इस बात को समझता है कि उसने कोई गलती की तो भारत जवाब देगा।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!