डीएम ने की प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों से पाँच बिंदुओं पर कार्य करने की अपेक्षा

दीनदयाल शास्त्री (ब्यूरो)

पीलीभीत । जिलाधिकारी पुलकित खरे द्वारा जनपद के प्राथमिक/उच्च प्राथमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापक/प्रधानाध्यापिका/सहायक अध्यापक/शिक्षामित्र/अनुदेशक से निकट भविष्य में विद्यालय खुलने के दृष्टिगत अपने विद्यालयों में अच्छा शैक्षिक वातावरण तैयार रखने हेतु सभी से 5 महत्वपूर्ण बिंदुओं पर कार्य करने की अपेक्षा की गई है।
डीएम द्वारा अवगत कराया गया है कि जनपद के विकास में शिक्षा के सर्वोच्च योगदान के माध्यम से ही समाज में नागरिकों की अगली पीढ़ी का सृजन होता है , जिसमें व्यक्ति शैक्षिक एवं नैतिक रूप से प्रगतिशील होते हैं । जनपद में कोविङ -19 के संक्रमण के दौरान भी आपके द्वारा ऑनलाइन शिक्षा के माध्यम से विद्यार्थियों को शिक्षा से जोड़े रखने का अभूतपूर्व प्रयास किया गया है , जिसकी सराहना की जाती है । निकट भविष्य में विद्यालय पुनः खुलेगें , जिसके लिए आवश्यक है कि शैक्षिक वातावरण तैयार रहे ,इस क्रम में अधोहस्ताक्षरी द्वारा आपसे निम्नलिखित पांच बिन्दुओ पर कार्य अपेक्षित है ।

■ विगत कुछ माह में जनपद के प्राथमिक / उच्चतर विद्यालयों में आपरेशन कायाकल्प के अन्तर्गत विभिन्न मूलभूत सुविधाओं के कार्य यथा – टायलीकरण / शौचालयों का नव निर्माण , मरम्मत / पेयजल व्यवस्था तथा कम्पोजिट ग्रान्ट से मूलभूत सुविधाओं के कार्य सम्पन्न कराये गये हैं । उक्त कार्यो की निरंतरता हेतु यह आवश्यक है कि कराये गये कार्यों की सतत निगरानी सुनिश्चित की जाये । हमारी जिम्मेदारी ” अभियान के अन्तर्गत आपका दायित्व बनता है कि यदि कराये गये कार्यो में किन्हीं असमाजिक तत्वों के द्वारा कोई तोड़ – फोड अथवा अन्य नुकसान किया जाता है , तो आपके द्वारा तत्काल सम्बन्धित के विरुद्ध संबंधित चौकी / थाने पर प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराया जाना सुनिश्चित किया जाए , जिससे शासकीय धनराशि का दुरूपयोग होने से रोका जा सके तथा इस प्रकार की अराजक प्रवृत्ति पर अंकुश लगे ।

■” मेरा विद्यालाय – मेरी शान ” अभियान के अन्तर्गत अपने विद्यालय में कराये गए मिशन कायाकल्प अथवा अन्य नवाचार के प्रेरणादायक कार्यों का अधिकतम् 01 मिनट का वीडियो एन्ड्राईड फोन से बनाकर सम्बन्धित खण्ड शिक्षाधिकारी के माध्यम से जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्यालय में उपलब्ध करायें , जिससे सर्वोत्तम कार्य कराने वाले अध्यापकों की सराहना की जा सके तथा आपका विद्यालय / नयाचार जनपद एवं प्रदेश के लिए प्ररेणास्त्रोत बन पाए ।

■” आ अब लौट चलें ” अभियान के अन्तर्गत आपको विद्यालय से पढ़कर सफल हुये विद्यार्थियों ( Alumni ) की सूची ( उनके नाम / पिता का नाम / पता / सम्पर्क / दूरभाष नम्बर / व्यवसाय सहित ) उपलब्ध कराते हुये . उक्त सूची को विद्यालय में भी चस्पा करायें , जिससे भविष्य में अध्ययनरत विद्यार्थियों को सफलता की दिशा में बल एवं प्रेरणा प्राप्त हो सके । साथ ही उक्त सूची के माध्यम से भविष्य में आवश्यकता पड़ने पर प्रशासन द्वारा इनसे सम्पर्क कर इन्हें छात्रों को प्रेरित करने हेतु आमंत्रित किया जा सके । आम जनमानस से भी अपील करें कि यदि यह पीलीभीत जनपद के प्राथमिक / उच्च प्राथमिक विद्यालय से शिक्षा प्राप्त कर सफल हुए है तो तत्काल अपने विद्यालय लौटकर अपना नाम दर्ज कराएँ और छात्रों से अपनी कहानी साझा करें ।

■” मेरी बगिया ‘ अभियान के अन्तर्गत विद्यालय में जहाँ भी स्थान उपलब्ध हो , एक ऐसी बगिया का निर्माण करें , जिसमें मौसम की फल / सब्जियां लगाई जाएँ और उनका प्रयोग आने वाले दिनों में बच्चों के लिए पौष्टिक एवं स्वस्थ्य भोजन पकाने में किया जा सके । यह लक्ष्य सभी विद्यालयों को माह फरवरी में पूर्ण कर इसकी फोटोग्राफ खण्ड शिक्षा अधिकारी के माध्यम से जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्यालय में भेजनी होगी ।

■” हमारी ताकत ‘अभियान के अन्तर्गत विभाग द्वारा गहन अध्ययन के बाद प्रकाशित पुस्तके क्रमशः ‘ आधारशिला, शिक्षक संग्रह तथा ध्यानाकर्षण का आपके द्वारा अगले 15 दिन के अन्दर पूर्ण अध्ययन कर लिया जाये जिससे आप बच्चों को समझाने एवं पढ़ाने में पूर्ण रूप से पारगंत हो जाये । इन पुस्तकों का शान ही हमारी ताकत होगा, जिससे बच्चों को कोरोना काल के उपरान्त विद्यालय खुलने पर शिक्षा प्रदान किये जाने में गति प्रदान कर पाएगें । इस बात का जल्द ही सत्यापन भी कराया जायेगा . क्योकि इन पुस्तकों का सुदृढ शान ही छात्रों के भविष्य को संवार सकता है । मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास भी है कि उपरोक्त पंचसूत्रों की मदद से जल्द ही पीलीभीत को प्रदेश का पहला प्रेरक जनपद बनाने में हम सफल होगें ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!