प्रभारी डॉक्टर का बस यहीं था कसूर…. पढ़ें पूरी खबर

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मधुपुर का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। पिछले दिनों सीएचसी मधुपुर के प्रभारी व वार्ड ब्वाय के बीच मारपीट के मामले में कोई कार्यवाही न होते देख प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मधुपुर के चिकित्साधिकारी डॉ0 ए0पी0 सिंह ने आज पुलिस अधीक्षक से मुलाकात कर अपना प्रार्थना पत्र दिया। इस दौरान उन्होंने एसपी को पत्रक सौंप सुरक्षा की गुहार लगाते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी की माँग की।

पीड़ित चिकित्साधिकारी डॉ0 ए0पी0सिंह ने बताया कि “11 नवम्बर 2020 को मुख्यमंत्री पोर्टल पर घिराजी देवी द्वारा शिकायत किया गया था, जिसकी जांच हेतु उन्हें उच्चाधिकारी द्वारा निर्देशित किया गया था। उक्त आदेश के क्रम में दिनांक 31 जनवरी को वह पूरे प्रकरण की जाँच करने गये थे। इस दौरान सी0एच0सी0 मधुपुर के वार्ड ब्याय देवमुनी अपने निवास स्थान ग्राम गौरही में देवमुनी स्वयं हास्पिटल संचालित कर रहे थे। जब वह उस कथित हॉस्पिटल पर जांच करने गए तो पाया कि एक महिला जो कबीरचौरा वाराणसी से आकर देवमुनी द्वारा संचालित क्लिनिक में भर्ती है जिसकी हालत गम्भीर है, जो एक बर्न केस थी। कथित क्लिनिक में उन्हें अचानक देखकर देवमुनी व उसका लड़का तथा दो अज्ञात व्यक्तियों ने लाठी डण्डा तथा धारदार हथियार से लैस उनके ऊपर हमला कर दिया और मारने-पीटने लगे, जिससे उन्हें गंभीर चोटें आईं। इस दौरान उसे बचाने जब लाल बिहारी आये तो आरोपियों ने उसे भी पीट दिया तथा हम दोनों की मोबाइल फोन छीनकर तोड़ दिया गया। पीड़ित के मुताबिक किसी तरह वे लोग वहाँ से अपनी जान बचा कर निकले और सीधे रॉबर्ट्सगंज कोतवाली पहुँच कर अपनी तहरीर दिया। लेकिन अब तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई। उन्होंने बताया कि गिरफ्तारी न होने से उन्हें जानमाल का खतरा बना हुआ है।”

प्रभारी डाक्टर का बस यही कसूर था कि वह उच्चाधिकारियों के आदेश के क्रम में जांच करने चला गया था, जिसका उसको खामियाजा भुगतना पड़ा। जबकि जिले में अवैध हॉस्पिटल्स की जाँच के लिए एक अलग से जाँच टीम गठित की गई है। जो शिकायतों के क्रम में ही जाँच कर कार्यवाही करती है। लेकिन मधुपुर मामले में जाँच टीम से जाँच क्यों नहीं कराई गई। जबकि जाँच टीम शिकायतों के मामले में ही पूरे जनपद में जाँच करके न सिर्फ वाहवाही लूटी रही है बल्कि जमकर वसूली भी कर रही है। जिसका हाल ही में एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। बहरहाल अब देखने वाली बात यह है कि मामला तो दर्ज हो गया है लेकिन कार्यवाही कब तक हो पाती है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!