महात्मा गांधी के पुण्यतिथि पर, विश्व कुष्ठ दिवस मनाया गया

संजय केसरी (संवाददाता)

डाला। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चोपन के अंतर्गत नया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गुरमुरा में 30 जनवरी को प्रत्येक वर्ष की भांति महात्मा गांधीजी की पुण्यतिथि, पर विश्व कुष्ठ दिवस के रूप में मनाया गया। जिनकी हत्या आज के ही दिन 1948 में कर दी गई थी। इस दिन को फ्रांसीसी मानवीय राउल फोलेरो ने महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने के लिए चुना था, जिन्होंने कुष्ठ रोगो से पीड़ित लोगों की सहायता की थी।
आज गुरमुरा स्थित नया प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में महात्मा गांधी के प्रतिमा पर एन.एम.ए. असलम अंसारी ने माल्यार्पण कर विश्व कुष्ठ उन्मूलन दिवस के रूप में मनाया । यह रोग के उन्मूलन की आवश्यकता पर बल देता है. यह भेदभाव और कलंक पर भी प्रकाश डालता है जिससे लोग हर दिन समाज में पीड़ित होते है।

विश्व कुष्ठ दिवस के लिए इस वर्ष का विषय ‘भेदभाव, कलंक और पूर्वाग्रह’ को समाप्त करना’ है. कुष्ठ रोग, जिसे हेन्सन रोग के रूप में भी जाना जाता है, जीवाणु माइकोबैक्टीरियम लप्रे के कारण होने वाला एक अत्यधिक संक्रामक संक्रमण है । न तो कुष्ठ रोग पैतृक होता है न छूने से फैलता है।
इस सन्दर्भ एन.एम.ए. असलम अंसारी ने बताया कि मेरे द्वारा कुष्ठ रोग का इलाज नया प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र गुरमुरा , प्राथिमिक स्वास्थ केन्द्र कोन एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कछनरवा में किया जाता है अभी तक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गुरमुरा में 3 मरीज, कोन में 4 मरीज पाए गए है जिसकी यहां पंजीयन हुआ है। कुष्ठ रोगी को इलाज के उपरांत प्राप्त कुछ लोगों को प्रमाण पत्र से आवास भी दिए गए। कुष्ठ दिवस पर नया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के सत्येन्द्र सिंह (फार्मासिस्ट), हेमलता (सीएचओ),विपिन बिहारी पशुपतिनाथ उपाध्याय, रामप्रवेश सोनी उपस्थित रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!