घोरावल नसबंदी प्रकरण में बड़ी कार्यवाही, आरोपी 108 नं0 एम्बुलेंस चालक लखनऊ से सम्बद्ध

राजकुमार गुप्ता (संवाददाता)

घोरावल । मंगलवार को नसबंदी शिविर में नसबंदी के बाद 108 नं0 एम्बुलेंस चालक द्वारा लाभार्थी को घर पहुंचाने के एवज में रुपयों की मांग करने पर एक महिला को चांदी की चेन गिरवी रखना पड़ी और निजी भाड़े पर पिकअप लेकर घर जाना पड़ा। इस दौरान करीब 8 घंटे तक महिला सीएचसी के बाहर जमीन पर पड़ी रही।

कोल्डिहा निवासी लहरी पुत्र डंगर ने बताया कि उसकी बहू सितारा देवी पत्नी बृजेश का नसबंदी कराना था। मंगलवार को भोर में नसबंदी के बाद उसे एंबुलेंस से जाने के लिए आईडी भी जारी कर दिया गया। इसके बाद जब एम्बुलेंस से घर जाने के लिए एम्बुलेंस चालक के पास पहुंचे तो एम्बुलेंस चालक उनसे 500 रुपए मांगे। परिजनों ने 300 रुपये देने की बात कही लेकिन चालक तैयार नहीं हुआ। अंततः सितारा देवी ने अपना चांदी का चेन घोरावल नगर में किसी सुनार की दुकान पर चेन गिरवी रखकर 1500 रुपए लिए। इसके बाद परिजनों ने एक पिकअप किराए पर लिया और घर के लिए निकले। वहीं दूसरी घटना में कुसुम्हा निवासी चंद्रभान सिंह ने एम्बुलेंस चालक पर नसबंदी कराने वाली महिलाओं को घर पहुंचाने की एवज में 200-200 रुपए और अस्पताल परिसर में रहने वाले एक स्वास्थ्यकर्मी पर दुर्व्यवहार का आरोप लगाते हुए अधीक्षक को शिकायती पत्र दिया है।

इस सम्बंध में सीएमओ डॉ0 नेम सिंह ने बताया कि “इस तरह की घटना बेहद दुःखद है। उन्होंने कहा कि इस तरह की घटना क्षम्य नहीं है। घोरावल का प्रकरण संज्ञान में आते ही कार्यवाही कर दी गयी है और दोषी को लखनऊ से सम्बद्ध कर दिया गया है।”

बहरहाल नसबंदी के दौरान धन उगाही का यह कोई पहला मामला नहीं है, इसके पूर्व में भी सीएचसी चोपन में नसबंदी कराने आयी कई लाभार्थी महिलाओं से पैसे की वसूली की गई थी, जिसमें अब तक कोई कार्यवाही नहीं की गई लेकिन घोरावल प्रकरण में तत्काल की गई कार्यवाही न सिर्फ लाभार्थियों से वसूली करने वालों में हड़कंप मच हुआ है बल्कि लोगों में एक विश्वास जगा है कि शायद आगे से सिस्टम में सुधार होगा।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!