भक्तिभाव से मनाया गया ‘गुरु गोविंद सिंह’ जयंती

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

● रॉबर्ट्सगंज नगर के गुरुद्वारा परिसर में आयोजित हुआ प्रकाश पर्व

● सैकड़ों भक्तों ने छके लंगर

सोनभद्र । रॉबर्ट्सगंज नगर स्थित गुरुद्वारा परिसर में आज सिखों के दसवें गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह का प्रकाश उत्सव वृहद व धूमधाम तरीके से मनाया गया। गुरुद्वारा को फूल, माला व झालर बत्ती से सजाया गया था। 18 जनवरी को रखे गए श्री अखंड पाठ की आज समाप्ति हुई, जिसके बाद हरमीत सिंह, दया सिंह द्वारा कीर्तन और अरदास से संगत निहाल हो गई। वहींमुगलसराय से आए सरदार सुरेंद्र सिंह व संतोष पाठक ने शबद-कीर्तन का गायन मधुर संगीत के द्वारा किया गया।

इस दौरान अध्यक्ष जसवीर सिंह ने गुरु साहब के जीवन के बारे में बताते हुए कहा कि “वे बचपन से ही क्रांतिकारी थे। उन्होंने अपनी कथा को खुद ही बयां किया है। उन्हें किसी की गुलामी बर्दास्त नहीं थी। गुरु जी ने न केवल अपने प्राण न्यौछावर किए बल्कि अपने चारों पुत्रों को भी धर्म पर कुर्बान कर दिया और कहा चार मुए तो क्या भया जीवन कई हजार। उन्होंने श्रद्धालुओं को संदेश देते हुए कहा कि आप भी गुरु गोविंद सिंह के जीवन और उनके उपदेशों को अपने जीवन में अपनाएं।”

कार्यक्रम की समाप्ति के बाद प्रसाद वितरण व लंगर में भक्तों ने प्रसाद ग्रहण किया।

इस मौके पर रणजीत सिंह, देवेंद्र सिंह भंडारी, अजीत सिंह, दया सिंह, मनजीत सिंह, दलजीत सिंह, बलकार सिंह, बलविंदर सिंह, रवि सिंह, अमन, अर्जुन सिंह आदि ने सहयोग दिया।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!