राष्ट्रहित में पत्रकारों का दायित्व रहता है सबसे अहम- प्रो. राम मोहन पाठक

घनश्याम पाण्डेय/विनीत शर्मा (संवाददाता)

चोपन। राष्ट्रहित में पत्रकारों का दायित्व समाज के सबसे कमजोर तबके की आवाज बनना और उसे अपनी कलम के माध्यम से निर्भीकता के साथ देश काल और समाज के सम्मुख पहुंचाना है। यह विचार नेहरू ग्राम भारती नामित विश्वविद्यालय प्रयागराज के कुलपति प्रोफेसर राम मोहन पाठक ने रविवार को आदर्श महाविद्यालय परिसर में आयोजित पत्रकारों के राष्ट्रीय सेमिनार में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए कहीं। मीडिया फोरम ऑफ इंडिया न्यास एवं यूपी जर्नलिस्ट यूनियन सोनभद्र की संयुक्त बैनर तले आयोजित सेमिनार में सोनभद्र एवं आसपास के जनपदों से आए हुए पत्रकारों से प्रोफ़ेसर पाठक ने अपील करते हुए कहा कि देश और समाज के सर्वमुखी स्वरूप को निखारने का दायित्व पत्रकारों पर ही है ऐसे में उन्हें समाज की दशा दिशा का स्वच्छ व पारदर्शी तरीके से विश्लेषण करने की जरूरत हैं।

बतौर मुख्य वक्ता पूर्व विधायक व साहित्यकार भगवती प्रसाद चौधरी ने कहा कि आज लोकतंत्र की संरक्षा का दायित्व पत्रकारों के कंधों पर आन पड़ा है और उन्हें इसे पूरी निर्भीकता के साथ निभाकर अपने दायित्व का निर्वहन करने की जरूरत है। उन्होंने पत्रकारों के समाज हित में भूमिका को लोकतंत्र की मजबूती से जोड़ते हुए कहा कि पत्रकार जागरूक है वरना हमारी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक परिदृश्य कुछ और हो जाती। बतौर विशिष्ट अतिथि मोहम्मद शाकिर सिद्दिकी एवम ऊर्जांचल बाणी न्यूज़ की चेयरमैन व प्रख्यात समाज सेविका रीना सिंह ने पत्रकारों के दायित्व को बड़े ही पारदर्शी तरीके से रखा। कथावाचक बाल व्यास आराधना चतुर्वेदी ने धर्म और संस्कृति से पत्रकारिता को जोड़ते हुए अपना विचार रखा। एनटीपीसी के सहायक प्रबंधक मानव संसाधन मिथिलेश कुमार श्रीवास्तव और आदर्श महाविद्यालय के संस्थापक वकील अहमद ने भी देश और समाज के लिए शिक्षा और संस्कृति को जरूरी बताते हुए उसे जन जन तक पहुंचाने की बात कही। संगोष्ठी की अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठ पत्रकार मिथिलेश प्रसाद द्विवेदी जनपद और आसपास के कई अन्य जिलों से कड़ाके की शीतलहर की परवाह किए बगैर पत्रकारों के इस महाकुंभ में बढ़-चढ़कर प्रतिभाग करने के लिए जहां बधाई दी वही उनसे समाज हित में अपने कलम की धार को निष्पक्षता और निर्भीकता के साथ परोसने की अपील की।

कार्यक्रम का संचालन पत्रकार कमाल अहमद एवं आभार पत्रकार राजेश गोस्वामी ने प्रकट किया। इसके पूर्व मंच से अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलन कर संगोष्ठी का आगाज किया गया और पत्रकारिता, साहित्य, शिक्षा, , चिकित्सा और धर्म व संस्कृति व समाज सेवा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले जनपद के 6 मनीषियों का मीडिया फोरम आफ इंडिया न्यास की ओर से सारस्वत सम्मान किया गया। इस मौके पर राष्ट्रीय पुरस्कार शिक्षाविद हरिशंकर शुक्ला, पं ओम प्रकाश त्रिपाठी,आईएफडब्ल्यूजे.केे राष्ट्रीय पार्षद राजेश द्विवेदी,मीडिया फोरम ऑफ इंडिया के प्रदेश अध्यक्ष चंद्र मणि शुक्ल,राकेश शरण मिश्र,अशोक दुबे, नईम गाजीपुरी, मस्तराम मिश्र, शेख जलालुद्दीन, तालिब अंसारी, महेश पांडे, नीरज पाठक,संजय चेतन,सद्दाम कुरैशी, जगदीश तिवारी, ईश्वर जायसवाल, शशि चौबे, संतोष कुमार नागर, सर्वेश श्रीवास्तव, परमेश्वर दयाल पुष्कर, राजेंद्र मानव, अरुण कुमार पांडे, रामानुजर धर द्विवेदी, चिंता पांडे , प्रमोद गुप्ता, विवेक पांडे, रामजी गुप्ता, सिराज हुसैन, ओम प्रकाश गुप्ता, बद्री प्रसाद, संतोष शर्मा, आशीष मिश्र, श्रृंगेश आनंद द्विवेदी, राजेश पाठक, ज्ञानदास कनौजिया, डॉक्टर विमलेश पटेल, मनोज कुमार तिवारी, मिथिलेश भारद्वाज, अनुपम तिवारी, प्रभात सिंह चंदेल, विनय कुमार सिंह, राजन चौबे, दिनेश पांडे, चिंता पांडे, विंध्य संस्कृति शोध समिति के निदेशक दीपक कुमार केसरवानी,अनुपम तिवारी, इमरान बक्शी, कृपाल गुप्ता, किशन कुमार, अनिल कुमार मिश्र, महेंद्र नाथ पांडेय, रामेश शरण मिश्र, संजय पति तिवारी, विनीत शर्मा, कैलाश नाथ,महेश पाण्डेय,प्रवीण पांडेय समेत सैकड़ों कलमकारो के साथ आदर्श महाविद्यालय के प्राचार्य भुवनेश तिवारी व महाविद्यालय के समस्त स्टाफ मौजूद रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!