खबर का असर : सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मधुपुर मारपीट मामले में फार्मासिस्ट पर गिरी गाज

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

● बड़ा सवाल, आखिर वायरल वीडियो में डॉक्टर भी दिख रहा दोषी तो सिर्फ एक पर क्यों हुई कार्यवाही

● फार्मासिस्ट विभागीय दोषी तो विभाग की किरकिरी कराने वाला डॉक्टर निर्दोष कैसे

● कुर्सी संभालते ही नए सीएमओ के सामने जनपद न्यूज Live ने उठाया था मामला

● सीएमओ ने जनपद न्यूज Live को जांच कर कार्यवाही का दिया था भरोसा

सोनभद्र । बीते दिनों सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मधुपुर में केंद्र प्रभारी और फार्मासिस्ट के बीच हुए मारपीट का वीडियो तेजी से वायरल हुआ था। जिसके बाद जनपद न्यूज़ live ने इस खबर को प्रमुखता से दिखाया था। जिस पर मुख्य चिकित्साधिकारी ने जाँच के बाद कार्यवाही की बात कही थी। गत 12 जनवरी को मुख्य चिकित्साधिकारी ने आरोपी फार्मासिस्ट विनोद कुमार यादव को अनुशासनहीनता के आरोप में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मधुपुर से प्रा0स्वा0केंद्र चतरा अंतर्गत नया प्राथमिक केंद्र बकवार तबादला कर दिया।

बताते चलें कि गत 31 दिसम्बर को समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मधुपुर में तैनात केंद्र प्रभारी व एक फार्मासिस्ट के बीच मेडिकोलीगल पंजिका तथा उपस्थिति पंजिका को लेकर बहसबाजी शुरू हो गया था फिर धीरे-धीरे बहसबाजी गली-गलौज में तब्दील हो गयी और इसके बाद मारपीट तक शुरू हो गयी। हालांकि स्थानीय लोगों और अन्य स्वास्थ्यकर्मियों ने बीच-बचाव कर मामला शांत कराया। बाद में फार्मासिस्ट ने सीएमओ सहित स्थानीय थाने में तहरीर देकर जान माल के सुरक्षा की गुहार लगाई थी।
बहरहाल कुल मिला कर अनुशासनहीनता की कार्यवाही करते हुए सीएमओ ने भले ही फार्मासिस्ट पर कार्यवाही कर दी। लेकिन जिस तरह से वायरल वीडियो में डॉक्टर द्वारा न सिर्फ भद्दी-भद्दी गालियां दी जा रही थी बल्कि मारपीट की शुरुआत भी किया गया, उस पर क्या कार्यवाही हुआ यह अभी तक साफ नहीं हो सका है।

खैर कुर्सी संभालते ही जिस तरह से सीएमओ के यह सामने विवादित मामला आया, वह न सिर्फ उनकी बल्कि स्वास्थ्य विभाग की भी किरकिरी करा गया।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!