भाकपा ने कृषि बिल की प्रतियाँ जला जताया आक्रोश

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । आज वाराणसी-शक्तिनगर राजमार्ग के बसुहारी मोड़ पर देश में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के बैनर तले और अखिल भारतीय किसान सभा के नेता कामरेड बुद्धि सेन मिश्रा के नेतृत्व में किसानों, मजदूरों ने कृषि बिल की प्रतियों को जलाकर सरकार की रवैया पर आक्रोश व्यक्त करते हुए केन्द्र सरकार की नीतियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वहीं उपस्थित लोगों ने किसान आंदोलन में शामिल अब तक शहीद हुए किसानों को नमन करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी और कृषि बिल को लेकर केंद्र सरकार की हटवादी नीतियों को जम कर कोसा।

वक्ताओं ने कहा कि “देश के अन्नदाता किसान है और इन्हीं अन्नदाताओं की इस सरकार में उपेक्षा की जा रही है। किसान आंदोलन में अब तक पांच दर्जन से अधिक वृद्ध और युवा किसानों ने अपनी शहादत दे दी है। सरकार की नीति और मंशा साफ नज़र नहीं आ रही है। देश का हर तबका अपने देश के किसानों के साथ है, ऐसे में कृषि बिल तत्काल वापस लिया जाए नहीं तो आंदोलन और लम्बा चलेगा जो देश हित में कत्तई उचित नहीं।”

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला सचिव कामरेड आर0के0 शर्मा ने कहा कि “आज लोहड़ी व मकर-संक्रांति के अवसर पर किसानों, मजदूरों और नौजवानों को सड़क पर उतर कर सरकार की नीतियों का विरोध करना पड़ रहा है और सरकार द्वारा पारित कृषि बिल के कॉपी को पुरे देश में किसान, मजदूर और युवा वर्ग जलाकर आक्रोश व्यक्त कर रहा है तथा सरकार की हिटलरशाही नीतियों का खुलकर विरोध कर रहा है। ऐसे में हम मांग करते हैं कि तीनों कृषि कानून को तत्काल वापस लिया जाए, किसानों की फसलों को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदने की गारंटी तय किया जाए, न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम दाम पर खरीद को गैर कानूनी घोषित किया जाए।”

इस दौरान प्रमुख रूप से हरिकेश्वर जायसवाल, प्रेमचंद गुप्ता, दिनेश्वर वर्मा, संजय रावत, अमरनाथ सूर्य, बाबू खां, नागेंद्र कुमार वर्मा, सुनिल सोनी, शिव कुमार जायसवाल, बुद्धि राम, सियाराम, कमला प्रसाद व बिसेसर आदि मौजूद रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!