मध्य रात्रि के बाद जिला पंचायत अध्यक्ष समेत सदस्यों का कार्यकाल खत्म, कल से प्रशासक के हाथों में चार्ज

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)


सोनभद्र । आज जिले का तापमान भले ही 3.2 डिग्री हो मगर आज सुबह से ही राजनीति गर्म है । वजह आज जिला पंचायत अध्यक्ष समेत सभी सदस्यों का कार्यकाल मध्य रात्रि के बाद से समाप्त हो रहा है । सुबह से ही जिला पंचायत कार्यालय में बैठक का दौर चलता रहा, फिर शुभचिंतकों के आने जाने व बधाई देने का सिलसिला शुरू हुआ, जो शाम तक चलता रहा। कल से जिला पंचायत अध्यक्ष की जगह प्रशासक नियुक्त हो जाएगा और अगला अध्यक्ष नियुक्त होने तक कार्य करेगा ।

आपको बतादें कि जिला पंचायत का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है लेकिन इस बार दो बार अध्यक्षों ने मिलकर इसे पूरा किया । 2016 में जब चुनाव हुआ तो सपा की सरकार थी और अनिल यादव ने अध्यक्ष की कुर्सी पर कब्जा जमा लिया लेकिन सूबे में सत्ता परिवर्तन के साथ उन पर सीट छोड़ने की तलवार लटकने लगी और आखिरकार अविश्वास ले आकर बीजेपी के अमरेश पटेल ने अध्यक्ष की कुर्सी को हथिया लिया । विपक्ष में रहते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष अमरेश पटेल ने भ्रष्टाचार के खिलाफ कई मुद्दों को उठाया था और उसकी जांच भी कराई थी लेकिन कुर्सी सभालने के बाद अमरेश पटेल पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लगने लगे । आलम यह था कि इनके सदस्य खुद इन पर खुल कर आरोप लगाने लगे । लेकिन हर आरोप-प्रत्यारोप को नजर अंदाज करके आखिरकार उन्होंने अपना कार्यकाल पूरा कर लिया ।

पंचायत चुनाव के तैयारियों की बात करें तो न तिथि तय है और न आरक्षण लेकिन ग्रामीण स्तर पर चुनाव परवान चढ़ने लगा है । हर कोई हाथ जोड़कर खुद को यह बता रहा है कि यदि सीट उनके मनमुताबिक आयी तो मैदान में उतरूंगा ।
लेकिन कल से चुनावी सरगर्मी और तेज होने की संभावना है क्योंकि जिला पंचायत का कार्यकाल आज मध्य रात्रि से खत्म हो रहा है ।
बहरहाल इस बार पंचायत के सभी चुनाव काफी दिलचस्प होने की उम्मीद है क्योंकि जिस तरीके से सभी बड़े राजनीतिक दल इस चुनाव में कूद रहे हैं और इसे गंभीरता से ले रहे हैं, ऐसे में यह कहा जा सकता हैं कि यह पंचायत चुनाव 2022 विधान सभा का सेमीफाइनल ही है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!