ठंड बढ़ी, जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त, अलाव बना सहारा

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । पिछले 24 घंटे से जिले में ठंड बढ़ गई है।मंगलवार की सुबह घना कोहरे होने के साथ ही शीतलहर भी चलने लगी।ठंड से बचने के लिए लोग आग जलाकर हाथ-पैर सेकने लगे। बुजुर्गों के साथ ही साथ बच्चे भी सर्दी से बचने के लिए अलाव तापते नजर आए।शाम ढलते ही लोग घरों में दुबक गए और सड़कों पर सन्नाटा पसर गया।
दिसंबर बीतने के बाद आधा जनवरी का महीना बीत जाने पर लगा कि इस बार ठंड नहीं पड़ेगी। ऐसे ही सुबह शाम की ठंडी बनी रहेगी, लेकिन खरमास समाप्त होने के दो दिन पहले ही 12 जनवरी मंगलवार की सुबह होते ही कोहरे का धुंध छा गया। लगभग नौ बजे सूर्यदेव के दर्शन हुए बावजूद इसके सर्द भरी पछुआ हवाएं लोगों की परेशान करती रही। तापमान रात में लगभग दो डिग्री सेल्सियस नीचे पहुंच जाने से ठंड और बढ़ गई। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि दो दिनों में ठंड और बढ़ सकती है। सुबह से ही पछुआ हवाएं चलने से गलन बढ़ी रही। आठ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पछुआ हवाएं चलने से लोग ठंड से परेशान रहे। जनपद में दिन जहां तापमान 22 डिग्री सेल्सियस रहा वहीं रात्रि में यह घटकर 12 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। इससे रात को गलन अधिक रही। हालांकि धूप निकलने से लोगों ने राहत की सास ली। लेकिन फिर भी ठंड बनी रही। सुबह शाम हर कोई अलावा के सामने रहा। गलन के चलते लोगों के सामने परेशानी खड़ी हो गई।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!