अधिक धान बेचने वाली संस्थाएं शासन की रडार पर

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में धान खरीद में मनमानी करने वाले शासन की रडार पर हैं। शासन द्वारा जनपद मीरजापुर, चंदौली, गाजीपुर और बलिया में क्रय केंद्र पर भारी मात्रा में धान लाने वाले संस्थाओं की जांच की जाएगी। जांच के दौरान संस्थाओं के सभी कागजात की बारीकी से जांच होगी साथ ही इन संस्थाओं के वास्तविकता की भी जांच होगी। इस बाबत प्रमुख सचिव वीना कुमारी ने संबंधित जिलाधिकारियों को दिशा निर्देश जारी किया है।
जनपद में शासन द्वारा निर्धारित लक्ष्य 261250 एमटी धान खरीद के लिए जिला प्रशासन द्वारा 99 क्रय केंद्र बनाए गए हैं, इसमें से 98 क्रय केंद्र पर धान खरीद चल रही है। वर्तमान समय में निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष 23325 किसानों से एक लाख 24 हजार 370 एमटी धान खरीद की जा चुकी है, जो निर्धारित लक्ष्य का महज 47.61 फीसद है। इसमें से खाद्य विभाग द्वारा 38081 एमटी, पंजीकृत समितियों द्वारा 5106 एमटी, एफपीसी द्वारा 8344 एमटी, मंडी समिति द्वारा 1561 एमटी, पीसीएफ द्वारा 23230 एमटी, यूपी एग्रो द्वारा 5853 एमटी, नैफेड द्वारा 20468 एमटी, एनसीसीएफ द्वारा 20520 एमटी और भारतीय खाद्य निगम द्वारा एक केंद्र पर 1003 एमटी धान की खरीद की गई है।

11094.22 लाख का भुगतान किसानों को करना शेष——

खरीफ क्रय वर्ष 2020-21 में 23325 किसानों से धान खरीद की गई है। इसके लिए किसानों को 23232.34 लाख का भुगतान किया जाना है, इसके सापेक्ष 12़138.12 लाख का भुगतान किया जा चुका है, जबकि 11094.22 लाख का भुगतान भी किसानों को करना शेष है।

जनपद में शासन के निर्देशानुसार 99 क्रय केंद्रों पर धान खरीद चल रही है। क्रय केंद्र प्रभारियों को मानक के अनुरूप धान खरीद करने का निर्देश दिया गया है।

– धनंजय सिंह, जिला खाद्य विपणन अधिकारी, मीरजापुर।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!