नगवां में रात के अंधेरे में चल रहा खनन खेल,जिम्मेदार मौन

राजा ( संवाददाता )

– रात ढलते ही पुलिस व वन विभाग की मिल जाती हैं मौन स्वीकृति

अमवार। दुद्धी तहसील एवं कोतवाली क्षेत्र के नगवा गाँव के कनहर नदी में इन दिनों रात भर खनन का खेल चल रहा है।सूत्रों की मानें तो खननकर्ता दिन भर बालू के ग्राहकों की तलाश में आसपास के गांवों में घूमते रहते हैं और ऑर्डर लेकर शाम को तय रणनीति के तहत वन विभाग और पुलिस विभाग से सम्पर्क कर रातभर के लिए मौन स्वीकृति ली जाती हैं इसके बाद क्षेत्र के नदियों से अवैध खनन का खेल शुरू हो जाता है।रात के लगभग 11 बजे से शुरू हुई खनन का खेल बेखौफ सुबह तक चलता रहता है।यह सब खेल कनहर नदी के नगवां गांव के तूर्रा घाट शमशान घाट के करीब चलता है। ग्रामीणों का कहना है कि एक तरफ लीजधारक जहाँ रातभर अपने कार्यो में लगे रहते हैं वही अवैध खननकर्ता भी रात ढलते ही कई ट्रैक्टर कनहर नदी मे उतार देते हैं।जिससे हमलोगों को रात में सोना भी मुश्किल हो रहा है।

अवैध बालू दिघुल ,खजुरी के रास्ते दुद्धी तक बेखौफ जाता है। स्थानीय ग्रामीणों की मानें तो खनन में 3 – 4 ट्रैक्टर लगे हैं जिसमें दो खजुरी की तथा एक निमियाडीह और एक दिघुल गांव की बताई जा रही हैं।जिस तरह अवैध कर्ताओं के हौसलें बुलन्द हैं उससे यह चर्चा है कि इसमें सम्बंधित अधिकारियों की मिलीभगत जरूर होगी।इसलिए खननकर्ता बेखौफ ट्रैक्टरों के माध्यम से अवैध बालू का आपूर्ति करते हैं।अभी कुछ दिन पहले जिस तरह तहसीलदार सुरेश चंद ने पिपरडीह से एक ट्रैक्टर पकड़ा था उससे कहीं न कहीं यह चर्चा जरूर है कि खनन का खेल चल रहा है जबकि जिम्मेदार मौन है।
ग्रामीणों ने जिला प्रशासन से कनहर नदी में चल रहे अवैध खनन की गोपनीय जाँच कराकर दोषियों के विरुद्ध कार्यवाई की मांग की है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!