मिट्टी व बोल्डर के सहारे बनी आधा दर्जन सड़कें, नहीं कराई पिचिंग

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । पटेहरा विकासखंड क्षेत्र के आधा दर्जन सड़क दशक से केवल मिट्टी और बोल्डर डाल कर छोड़ दी गई है। इस पर पीच न होने से कम दूरी की इन सड़कों पर राहगीर आए दिन गिरकर चोटिल हो रहे है। लोगों का आरोप है कि कई बार अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों से गुहार लगाई, लेकिन आज तक कोई सुनवाई नहीं हुई। क्षेत्र के लोगों ने संबंधित विभाग के अधिकारियों से सड़कों का निर्माण कराने की मांग की है। मांग पूरी न होने पर जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन की चेतावनी दी।

क्षेत्र के रामपुर रिक्शा प्राचीन मंदिर जाने वाला प्रमुख मार्ग, पटेहरा से रामपुर का मार्ग, रिक्शा से रामपुर का मार्ग, रामपुर से मठहिया कोल बस्ती मार्ग, लालापुर से खनवर दुबार मार्ग, टौआ से देवरी दुबार खास मार्ग, बेलहरा बीएचयू से बहुती मार्ग, पथरौर से बरईपुर मार्ग, प्रशासन को आइना दिखा रहे है। मजे की बात यह भी है कि विकास खंड के 15 ग्राम पंचायत श्यामाप्रसाद मुखर्जी योजना से नवाजे गए है, छह वर्ष से योजना क्रियान्वित भी है। इसके लिए कार्यशाला चला कर तमाम प्रस्ताव भी ग्राम पंचायतों से मांगे गए थे। इनमें मूलभूत सुविधाओं से विकसित कर देहात से शहर बनाने की मुख्य योजना बताई गई थी। इसके लिए तमाम धनराशि पानी की तरह प्रशासन बहा भी रहा है फिर भी ग्रामीण सड़कों की दुश्वारी जस की तस अपने को पीच होने की बारी के इंतजार में दशकों से पड़ी है।

बीडीओ पटेहरा दिनेश कुमार मिश्र ने बताया कि “विकास खंड की 15 ग्राम पंचायतें रूर्बन योजना से पूर्ण विकसित की जानी है, इसके लिए विकास की तमाम रूपरेखा तय कर दी गई है। छूटी सड़कों के पिच के लिए कवायद पूरी की जा रही है।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!