पद्म विभूषण वैज्ञानिक सत्येंद्र नाथ बोस जयंती के साथ नववर्ष कार्यक्रम का किया गया आयोजन

दीनदयाल शास्त्री (ब्यूरो)

पीलीभीत। पूरनपुर के सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज में समाधान विकास समिति विपनेट क्लब के तत्वाधान में सत्येंद्र नाथ बोस जयंती के अवसर पर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर प्रश्नोत्तरी का आयोजन भी किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज बीसलपुर के प्रधानाचार्य रवि शरण सिंह चौहान रहे। विद्यालय के भौतिक विज्ञान प्रवक्ता अरुण कुमार, विज्ञान शिक्षक इंदुधर दीक्षित में सत्येंद्र नाथ बोस के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि उन्हें भारत का आइंस्टीन भी कहा जाता है। परमाणु के मूल का नाम उनके नाम पर बोसान तथा पदार्थ की पांचवी अवस्था बोस आइंस्टीन संघनित अवस्था का नाम दिया गया। आपका विज्ञान के क्षेत्र में इतना कार्य है कि आपको भारत का आइंस्टीन न कहकर आइंस्टीन को जर्मनी का सत्येंद्र नाथ बोस कहना चाहिए। इस अवसर पर समन्वयक लक्ष्मीकांत शर्मा द्वारा प्रश्नोत्तरी का आयोजन किया गया जिसमें आकर्षण सिंह, अर्पित कुमार, उपमन्यु ने श्रेष्ठता दिखाई। इन्हें प्रशस्ति पत्र व पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि ने आशीर्वचन देते हुए कहा कि महान पुरुषों की जयंती पर हमें प्रेरित होने, सीखने व उन जैसा कुछ करने का अवसर प्राप्त होता है। इसे खोना नहीं चाहिए। विद्यालय के प्रधानाचार्य संजय मिश्रा ने सभी का आभार जताते हुए प्रतिभागियों का आह्वान किया कि अपने अनुभव समाज के व अन्य विद्यार्थियों के साथ साझा करें। कार्यक्रम से भारत की श्रेष्ठ वैज्ञानिक परंपरा से किशोर पुरी को अवगत कराने के क्लब के प्रयासों को गति मिली। संचालन सूर्य बाला शर्मा ने किया।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!