जब भीड़ गए दो कोरोना योद्धा, वीडियो वायरल

आनंद चौबे/जयनाथ मौर्या (संवाददाता)

सोनभद्र । आज हम स्वास्थ्य विभाग का एक ऐसा वीडियो दिखाने जा रहे हैं जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग का यह वीडियो सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मधुपुर का है। जहाँ तैनात केंद्र प्रभारी व एक फार्मासिस्ट के बीच मेडिकोलीगल पंजिका तथा उपस्थिति पंजिका को लेकर बहसबाजी शुरू हुआ। फिर धीरे-धीरे बहसबाजी गली-गलौज में तब्दील हो गया और इसके बाद मारपीट तक शुरू हो गयी। आप वीडियो में भी साफ देख सकते हैं कि किस तरह डॉक्टर और फार्मासिस्ट एक दूसरे को मार रहे हैं।

जिस वक्त यह पूरा घटना घट रहा था उस समय अस्ताल परिसर में कई मरीज व स्टाफ भी मौजूद थे। कुछ स्टाफ ने बीच बचाव कर मामले को शांत कराया लेकिन इस घटना से सोशल मीडिया पर स्वास्थ्य विभाग के उन डॉक्टरों व स्वस्थ्य कर्मियों की किरकिरी हो रही है जो कोरोना काल में कोरोना योद्धा कहलाते थे।

जानकारी के अनुसार मामला बुधवार की सुबह समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मधुपुर का है। जहाँ चिकित्सा प्रभारी डॉ0 ए0पी0 सिंह तथा वहीं कार्यरत फार्मासिस्ट विनोद कुमार के बीच टी0ए0 अजीत सिंह तथा एन0एम0ए0 अल्ताफ अली की उपस्थिति शत प्रतिशत भेजे जाने को लेकर विवाद हुआ जो मारपीट और गाली गलौज में तब्दील हो गई।

देखें वीडियो

फार्मासिस्ट विनोद कुमार ने बताया कि जब वह सुबह हॉस्पिटल पहुँचे तो चिकित्सा प्रभारी ने मेडिकोलीगल पंजिका तथा उपस्थिति पंजिका के संबंध में पूछताछ करने लगे और फार्मासिस्ट द्वारा दोनों पंजिका रखे जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए टीए अजीत सिंह तथा एनएमए अल्ताफ अली की उपस्थिति भेजे जाने पर भड़क गए और गली देते हुए मारपीट करने लगे। बाहरी लोगों के बीच बचाव के बाद मामला शांत हुआ तो वह अपनी जान बचाकर भागे।

फार्मासिस्ट विनोद कुमार ने सीएमओ और रॉबर्ट्सगंज कोतवाली में लिखित रूप से सूचना देकर शिकायत दर्ज कराते हुए सुरक्षा की गुहार लगाई है।

जबकि घटना की जानकारी होने पर डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन ने भी पत्र जारी करते हुए घटना की निंदा की तथा आरोपी चिकित्सा प्रभारी पर कार्यवाही की मांग की है।

वहीं पूरे घटना पर रॉबर्ट्सगंज थाना प्रभारी निरीक्षक अंजनी कुमार राय ने बताया कि तहरीर के विषय में जानकारी नहीं है लेकिन घटना मेरे संज्ञान में है और इसके लिए सुकृत चौकी प्रभारी को जाँच कर अग्रिम विधिक कार्यवाही के लिए निर्देशित कर दिया है।

वहीं इस पूरे मामले पर नवागत सीएमओ डा0 नेम सिंह ने जांच के बाद कड़ी कार्यवाही करने की बात कही है। सीएमओ ने कहा कि इस तरह की घटना समाज में छवि को खराब करती है। उनका प्रयास होगा कि जिले में फिर इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति न हो।

बहरहाल डॉक्टर और फार्मासिस्ट के बीच ऐसा कोई बड़ा मसला नहीं था जो बैठकर न सुलझाया जा सके । लेकिन जिस तरह से भरे समाज के सामने मारपीट और गाली-गलौज जैसा कृत्य किया गया यह न सिर्फ विभाग को बल्कि पेशे को भी शर्मसार करता है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!