जम्मू-कश्मीर में आयुष्मान योजना की शुरुआत, मोदी ने कहा- ‘‘कुछ राजनीतिक दलों की कथनी और करनी में बड़ा फर्क

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को जम्मू और कश्मीर में आयुष्मान योजना की शुरुआत की । इस दौरान पीएम ने बीते दिनों संपन्न हुए DDC चुनाव का जिक्र किया । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू एवं कश्मीर में जिला विकास परिषद (डीडीसी) के चुनावों के शांतिपूर्ण व पारदर्शी ढंग से संपन्न होने और लोगों की बड़ी भागीदारी को भारत के लिए ‘‘गौरव’’ का क्षण बताया और कहा कि इन चुनावों ने एक नया अध्याय लिखा है और दिखाया कि देश में लोकतंत्र कितना मजबूत है ।

इस दौरान पीएम मोदी ने कांग्रेस पर भी निशाना साधा। पीएम ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में इन चुनावों ने ये भी दिखाया कि हमारे देश में लोकतंत्र कितना मजबूत है। लेकिन एक पक्ष और भी है, जिसकी तरफ मैं देश का ध्यान आकर्षित कराना चाहता हूं । इस अवसर पर अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के उन आरोंपों का भी जवाब दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘‘भारत में कोई लोकतंत्र’’ नहीं है और यह ‘‘केवल कल्पना में’’ मौजूद है ।

मोदी ने कहा कि कांग्रेस शासित पुडुचेरी में उच्चतम न्यायालय के आदेश के बावजूद पंचायत और नगरपालिका के चुनाव नहीं हो रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं देश का ध्यान आकर्षित कराना चाहता हूं। पुडुचेरी में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद पंचायत और म्यूनिसिपल इलेक्शन नहीं हो रहे। आप हैरान होंगे, सुप्रीम कोर्ट ने 2018 में ये आदेश दिया था । लेकिन, वहां जो सरकार है, इस मामले को लगातार टाल रही है । पुडुचेरी में दशकों के इंतजार के बाद साल 2006 में स्थानीय निकाय चुनाव हुए थे । इन चुनावों में जो चुने गए उनका कार्यकाल साल 2011 में ही खत्म हो चुका है’ ।

मोदी ने कहा, ‘‘कुछ राजनीतिक दलों की कथनी और करनी में कितना बड़ा फर्क है, लोकतंत्र के प्रति वो कितना गंभीर है इस बात से ही पता चलता है। कितने साल हो गए, पुडुचेरी में पंचायत चुनाव नहीं होने दिए जा रहे हैं ।’’

पीएम ने कहा कि पुडुचेरी में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद पंचायत और म्यूनिसिपल इलेक्शन नहीं हो रहे । आप हैरान होंगे, सुप्रीम कोर्ट ने 2018 में ये आदेश दिया था । लेकिन वहां जो सरकार है, इस मामले को लगातार टाल रही है । साथियों, पुडुचेरी में दशकों के इंतजार के बाद साल 2006 में स्थानीय चुनाव हुए थे । इन चुनावों में जो चुने गए उनका कार्यकाल साल 2011 में ही खत्म हो चुका है ।

माना जा रहा है कि पीएम की यह टिप्पणी कांग्रेस नेता राहुल गांधी के उस बयान का जवाब है जिसमें उन्होंने कहा था कि लोकतंत्र आपके सपनों में हो सकता है वास्तविक धरातल पर नहीं है। एक सवाल के जवाब में राहुल गांधी ने कहा था, ‘भारत में कोई लोकतंत्र नहीं है, देश में यह हकीकत में नहीं, केवल कल्पना में है ।’ उन्होंने आरोप लगाया था, ‘प्रधानमंत्री अक्षम व्यक्ति हैं जो तीन-चार लोगों की तरफ से इस व्यवस्था को चला रहे हैं ।’



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!