बीजपुर में विवादित पट्टे की जमीन को लेकर चर्चा जोरों पर, जमीन पर दो दावेदार, एसडीएम बोले- होगी जांच

मुकेश अग्रवाल (संवाददाता)

– निर्माण कार्य युद्धस्तर पर जारी, दूसरा पक्ष न्याय के लिए अधिकारियों की चौखट पर डटा

– बेशकीमती जमीन को लेकर सभी की निगाहें टिकी

बीजपुर । सोनभद्र में उभ्भा कांड के बाद भी जमीन विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है । ताजा मामला दुद्धी तहसील के बीजपुर का है, जहां एक व्यक्ति ज़मीन पर कब्जा होने से बचाने के लिए लगातार न्याय की गुहार लगा रहा है । बल्कि न्याय मिलने की जगह फटकार मिल रही है ।

जानकारी के मुताबिक स्थानीय बाजार स्थित रेनुकूट-बीजपुर मार्ग के दक्षिण पटरी पर वेश कीमती जमीन में रात को युद्धस्तर पर भवन निर्माण कार्य कराया जाना चर्चा का विषय बना हुआ है।

मिली जानकारी के अनुसार लगभग 1985 में एनटीपीसी रिहंद प्रबन्धन ने विस्थापित परिवारों को 40 फिट बाई 60 फिट का आवासीय पट्टा आवंटित किया था। कुछ जगह नाम में हेराफेरी कर शुरू से ही विवाद को जन्म दिया गया । बताया जा रहा है कि मामला विवाद के कारण उच्च न्यायालय में चल रहा था । लेकिन इस बीच पिछले 16 दिसम्बर को दुद्धी तहसील के एक अधिकारी मौके पर पहुँच कर उक्त विवादित भूखंड को एक चर्चित व्यक्ति को कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए बाजार में उक्त प्लाट नम्बर पर निर्माण कार्य की अनुमति दे दी । जबकि यह प्लाट नम्बर नाम आवंटित है अन्य पट्टेदार भी दूसरे पक्ष का ही प्लाट बता रहे हैं । इस बीच दूसरा पक्ष भी अपना कोर्ट का आदेश और कागजात और पट्टा दिखा कर निर्माण कार्य न कराए जाने की गुहार अधिकारी व पुलिस प्रशासन से करता रहा लेकिन विवाद को सुलझाने की बजाय दूसरे पक्ष को मौके से भगा दिया गया। गौरतलब है कि बीजपुर में उपजे अधिकांश जमीनी विवाद भूमाफियाओं की दखलंदाजी से हमेशा से प्रशासन भी त्रस्त रहता है ।

तत्कालीन तहसील अधिकारी का आरोप था कि उक्त विवादित व्यक्ति सर्वे सेटलमेंट के समय ग्राम पंचायत की सरकारी जमीन को कई जगह फर्जी ठंग से अपने नाम करा कर दर्जनों लोगों के नाम बिक्री कर रजिस्ट्री तक कर दिया था जिसको तत्कालीन दुद्धी एसडीएम द्वारा निरस्त भी कर दिया गया है। वहीं उप जिलाधिकारी दुद्धी रमेश कुमार से जब बात की गई तो उन्हों ने कहा कि उक्त प्लाट का सत्यापन कराया जाएगा और गलत व्यक्ति का निर्माण नही होने दिया जाएगा।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!