‘ऑपरेशन-100’ : अब ओवरलोड पकड़े जाने पर वाहन के साथ खदान मालिक को भी भुगतना होगा भारी जुर्माना

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

जिलाधिकारी ने भी माना रात में चलता था अवैध परिवहन का खेल

मजिस्ट्रेट चेकिंग के बाद परिवहन माफियाओं में हड़कम्प

अब तक 89 ओवरलोड वाहनों पर हो चुकी है कार्यवाही

जिलाधिकारी के एक्शन के बाद मोटर मालिकों समेत खदान मालिक भी सकते में

प्रथम चरण में जिलाधिकारी का चल रहा है ‘ऑपरेशन-100’

सोनभद्र । आखिरकार जनपद न्यूज Live की खबर पर जिला प्रशासन ने संज्ञान लेते हुए कार्यवाही शुरू कर दिया है। जनपद न्यूज Live लगातार लिखता रहा है कि ओवरलोड के मामले में प्रशासन दोहरी नीति अपना रहा है और समस्या को खुद पैदा कर रहा। ओवरलोड के मामले में प्रशासन अगर इंट्री पॉइंट पर ही अंकुश लगाना शुरू कर दे तो सारी समस्या ही खत्म ही जाएगी। जिसके बाद परिवहन माफियाओं के खिलाफ जिलाधिकारी ने एक और बड़ा प्लान तैयार किया है।

जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम के नए प्लान के मुताबिक, अब सिर्फ ओवरलोड वाहनों पर ही कार्यवाही नहीं होगी बल्कि उन खदानों पर भी कार्यवाही होगी जहाँ से ओवरलोड माल ट्रकों में भरा जा रहा है। जिलाधिकारी ने बताया कि पकड़े गए ओवरलोड वाहनों से यह पता किया जाएगा कि आखिर किस खदान से यह माल लोड हुआ है। जिसके बाद उस खदान को दो लाख रुपये तक का जुर्माने की नोटिस भेजा जाएगा।

जिलाधिकारी ने कहा कि यदि खदानों से ही ओवरलोड माल देना बंद कर दिया जाय तो सारी समस्या ही खत्म हो जाएगी। उन्होंने कहा कि एसडीएम के नेतृत्व में जांच की जा रही है और जांच में कई ओवरलोड वाहन पासरों के बारे में भी सूचनाएँ मिल रही है। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में ओवरलोड या बिना परमिट की गाड़ियां नहीं चलेगी।

जिलाधिकारी ने सख्त निर्देश देते हुए कहा कि अवैध परिवहन व ओवरलोडिंग में संलिप्त अवांछनीय तत्वों के साथ ही जिन राजकीय कार्मिकों की संलिप्तता पायी जायेगी, उनके खिलाफ भी कार्यवाही की जायेगी।

आपको बतादें कि जहाँ एक तरफ योगी सरकार में माफियाओं की जगह या तो जेल में है या फिर उनका राम नाम सत्य है। वहीं सोनभद्र में खनन व परिवहन माफियाओं की ताकत दिन प्रतिदिन प्रशासन के लिए नासूर बनता जा रहा है। जिसे देखते हुए जिलाधिकारी ने इसके लिए ‘ऑपरेशन 100’ का प्लान तैयार किया है। परिवहन माफियाओं की बढ़ती ताकत को भांप कर जिलाधिकारी ने इस ऑपरेशन की सफलता के लिए चार मजिस्ट्रेट, चार सीओ, एआरटीओ परिवहन, खनन सर्वेयर, कोतवाली इंस्पेक्टर समेत कई दरोगा व सिपाही की अभियान में ड्यूटी लगाई हैं ।

कुल मिलाकर जिलाधिकारी का 100 घण्टे के ऑपरेशन में भले ही ट्रकों के पहिये थम गए हों मगर ट्रकों के चलने से न सिर्फ राजस्व को जबरदस्त नुकसान हो रहा था बल्कि बदमनी भी मिल रही थी।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!