सत्ता के दबाव में पंचायत भवन का निर्माण कार्य रुका, ग्रामीणों में रोष

विनोद कुमार (संवाददाता)

* 23लाख रुपये में होना था निर्माण

शहाबगंज । सरकार की मंशा है कि सभी ग्रामपंचायतों में विजली, पानी, पंचायत भवन, शौचालय के साथ पक्की सड़के हो जिससें ग्रामीणों को सारी सुविधा मिल सकें।इसी उद्देश्य के पूर्ती के लिए पक्की सड़क के बाद सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराया जा रहा है।जिन गांवों में पंचायत भवन नहीं है वहां पंचायत भवन का निर्माण कार्य कराया जा रहा है।जिसका उद्देश्य ग्रामीणों को सारी सुविधा पंचायत भवन पर ही मिल जाय और अनावश्यक रुप से ब्लाक मुख्यालयों का चक्कर नहीं लगाना पड़े। लेकिन सत्ता से जूड़े लोग अपनी सरकार की योजनाओं को ही पलिता लगाने पर तूले हुए है। मामला है विकास खण्ड शहाबगंज के खखड़ा गांव का जहां ग्रामप्रधान द्वारा सामुदायिक शौचालय के पास ही पंचायत भवन का निर्माण दलित बस्ती के पास गाटा संख्या 407 में निर्माण कार्य प्रारम्भ कराया।नींव खोदकर पिलर खड़ा करने का कार्य मजदूरों द्वारा प्रारंभ करा दिया गया।लेकिन पंचायत भवन का निर्माण राजनीति का भेट चढ़ गया। सत्ता से जूड़े लोगों ने उच्चाधिकारियों पर दबाव बनाकर अनावश्यक रुप से काम बंद करा दिया।जिससे निर्माण कार्य बंद हो गया। अचानक कामबंद होने से ग्रामीणों में आक्रोश भी ब्याप्त हो गया है।वहीं ऐसे कृत से सरकार की मंशा पर भी प्रश्नचिन्ह खड़ा हो गया है। जबकि अब तक लाखों रुपये खर्च हो चूका है। ग्रामप्रधान उर्मिला सिंह ने कहां बंजर जमीन पर पंचायत भवन का निर्माण कार्य कराया जा रहा था। लेकिन सत्ता से जूड़े लोगों ने अनावश्यक रुप से कार्य बंद करा दिया है। जिसका नुकसान आमजन को उठाना पड़ेगा।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!