ओवरलोड वाहनों के संचालन से उखड़ रही पुल की बेयरिंग कोट

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । चुनार घाट से मेड़िया छोर को जोड़ने वाले पक्के पुल पर लगातार हो रहे भारी वाहनों के आवागमन के चलते पुल की उखड़ रही।सड़क और उसमें से झांक रहे सरिए गुणवत्ता की पोल खोलने के लिए काफी हैं। करीब एक फीट के घेरे में उखड़ी सड़क के लिए लोग पुल पर आवागमन कर रहे ओवरलोड भारी वाहनों को दोषी मान रहे हैं। वहीं दूसरी ओर आरसीसी गुणवत्ता पर सवाल खड़े हो रहे हैं। लोगों का कहना है कि यदि गंगा पर बना पक्का पुल नगर व आसपास के इलाके के निवासियों के लिए एक वरदान है और इसके साथ बरती जा रही लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। वहीं विभागीय अधिकारियों की माने तो आने-जाने वाले सैकड़ों ओवलोड ट्रकों के चलते ही पुल की बेयरिग कोट उखड़ रही है।

पुल पर आवागमन शुरू हुए मात्र सवा दो साल बीत हुए हैं ऐसे में पुल की उपरी सतह (बेयरिग कोट) का क्षतिग्रस्त होना नगर वासियों को रास नहीं आ रहा है। लोगों को चिता इस बात को लेकर है कि यदि यह गड्ढा धीरे-धीरे बड़ा हुआ तो चुनार वालों को आने जाने में काफी परेशानियां झेलनी पड़ेंगी। सपा शासनकाल में तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने वर्ष 2007 में इस पक्के पुल की नींव रखी थी। करीब 11 साल की राजनीतिक खींचतान के बाद 15 जुलाई 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मीरजापुर में हुई सभा में यह पुल जनता को समर्पित कर दिया गया। हालांकि अभी तक सेतु निगम द्वारा पीडब्ल्यूडी को हैंडओवर नहीं किया गया है। लोगों ने स्थानीय विधायक अनुराग सिंह का ध्यान आकृष्ट कराते हुए इसकी मरम्मत कराए जाने की मांग की है।

आर0एस0 उपाध्याय, प्रोजेक्ट मैनेजर, सेतु निगम ने बताया कि “पुल पर बेयरिग कोट की लेयर उखड़ने का मामला संज्ञान में है। यह भारी ओवरलोड वाहनों के आवागमन के चलते हुआ है। अस्सी टन का वाहन में ब्रेक लगेगा तो बेयरिग कोट पर उसका असर पड़ना स्वाभाविक है। उखड़े हुए हिस्से की मरम्मत दो चार दिनों में करा दी जाएगी।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!