किसान आंदोलन : पूरे देश में टोल नाकों पर किसानों का प्रदर्शन व जमावड़ा, टोल फ्री करने पर अड़े

दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन का आज 17वां दिन है। केंद्र सरकार से बातचीत ना बनने के बाद जहां एक तरफ किसानों ने दिल्ली जयपुर और दिल्ली आगरा हाईवे को 12 दिसंबर से बंद करने का ऐलान किया है तो वहीं दूसरी तरफ किसानों ने देशभर के सभी टोल नाकों को भी टोल फ्री करने का एलान किया है।

किसानों द्वारा जयपुर-दिल्ली एवं दिल्ली-आगरा एक्सप्रेसवे को अवरुद्ध करने की घोषणा के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने आज शहर की सीमाओं पर सुरक्षा बंदोबस्त बढ़ा दिए हैं । प्रदर्शन स्थलों पर यात्रियों को किसी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े इस लिहाज से भी कुछ उपाय किए गए हैं ।

मानेसर की डीसीपी निकिता गहलौत ने कहा, “किसानों के राष्ट्रीय राजमार्ग को अवरुद्ध करने के फैसले को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया है और अब तक हमें ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है कि रेवाड़ी या राजस्थान के जरिए गुरुग्राम में किसी भी किसान संगठन ने प्रवेश किया हो।” उधर दिल्ली-गुरुग्राम सीमा पर दिल्ली पुलिस राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश करने वाले संदिग्ध वाहनों पर कड़ी निगरानी रख रही है । उन्होंने सीमा पर कीचड़ से लदे कुछ ट्रक और बैरिकेड लगाए हैं ।

गुरुग्राम के पुलिस कमिश्नर के.के. राव ने कहा, “अब तक जिले भर में कोई अप्रिय घटना या सड़क को अवरुद्ध किए जाने की सूचना नहीं मिली है । बल के साथ वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को तैनात किया गया है. हमने एक्सप्रेसवे और टोल प्लाजा को अवरुद्ध करने की योजनाओं के मद्देनजर जरूरी एहतियाती उपाय करने के लिए सभी संबंधित अधिकारियों के लिए एडवाइजरी जारी की है ।” उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारियों को सभी संवेदनशील स्थानों, विशेष रूप से सीमावर्ती क्षेत्रों और खेरकी दौला टोल प्लाजा में गश्त करने के लिए कहा है ।

FICCI के वार्षिक सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा, ‘नए कानून के बाद किसानों को नए बाजार मिलेंगे, नए विकल्प मिलेंगे, टेक्नोलॉजी का लाभ मिलेगा, देश का कोल्ड स्टोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर आधुनिक होगा । इन सबसे कृषि क्षेत्र में ज्यादा निवेश होगा ।’

कृषि सुधार कानूनों के एलान के बाद से प्रधानमंत्री मोदी अलग अलग मंचों पर 25 से ज्यादा बार इसके बारे में बात कर चुके हैं । 15 अगस्त को लालकिले के प्राचीर से लेकर बिहार चुनाव तक पीएम मोदी ने इन कानूनों के बारे में बताय । प्रधानमंत्री ने अपने भाषणों में तीनों कृषि कानूनों के हर पहलू को समझाया ।कानूनों को लेकर किसानों की आशंकाओं को दूर करने की कोशिश की ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!