किसान आंदोलन को लेकर खाप का बड़ा ऐलान, 3 दिसंबर की वार्ता विफल होने पर आंदोलन में कूदेगी  खाप पंचायतें

फाइल फोटो

पश्चिमी उत्तर प्रदेश की खाप पंचायतों ने दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को समर्थन देने का आह्वान किया है 3 दिसंबर की सरकार के खाप पंचायतों की निगाहें लगी हुई है यदि सरकार के साथ किसानों की वार्ता विफल होती है,तो खाप पंचायतें दल बल के साथ दिल्ली के लिए कूच करेंगी।

शामली जिले के गाँव लिसाड़ में खाप चौधरियों ने किया एलान किसान आंदोलन भाजपा की केंद्र सरकार की गले की हड्डी बनता जा रहा है। हरियाणा की खाप पंचायत के बाद अब पश्चिमी यूपी की खाप पंचायतों ने भी किसान आंदोलन को अपना समर्थन देने का ऐलान कर दिया है शामली क्षेत्र की खाप पंचायतें की निगाहें दिल्ली में 3 दिसंबर को सरकार के साथ होने वाली बातचीत पर टिकी हुई है। यदि बातचीत सफल नहीं होती तो खाप पंचायतों के प्रमुखों ने ऐलान किया है, कि वह दल बल के साथ दिल्ली के लिए कूच कर किसान आंदोलन को अपना समर्थन देंगे। खाप प्रमुखों का कहना है, कि यदि सरकार किसानों की मांगे नहीं मानती तो खाप पंचायतें क्षेत्र के किसानों को साथ लेकर 3 तारीख को दिल्ली के लिए कुछ करेंगे,और बॉर्डर पर पहुंचेंगे। खाप पंचायत प्रमुखों का कहना है कि वे किसी भी कीमत पर किसानों के द्वारा एमएसपी पर मांगी गई गारंटी पर सरकार का किसान् अध्यादेश में संशोधन चाहते हैं। यदि किसानों के साथ उन्हें लंबा आंदोलन करना पड़ा, तो वह बॉर्डर तोड़कर जंतर मंतर पर किसानों के बीच शामिल होंगे। इसके लिए चाहे सरकार उन पर आंसू गैस के गोले छोड़े या वाटर कैनाल का प्रयोग करें या गोली चलाएं। खाप प्रमुखों का कहना है कि इससे पहले भी जीएसटी में कई बार संशोधन किए गए हैं, सरकार को अपनी जिद छोड़ कर किसान अध्यादेश पर भी एमएसटी की गारंटी का संशोधन लाना चाहिए।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!