सब्जियों की बड़ती कीमत ने गरीबों की थाली से दूर हो रही आलू प्याज

मनोहर कुमार (संवाददाता)

डीडी यू नगर। खाद्य पदार्थों व सब्जियों की बड़ती कीमतों ने स्वाद फीका कर दिया।आलू व प्याज के दाम ने लोगों को रुलाना शुरू कर दिया है। गरीबों की थाली से आलू प्याज गायब हो रहे हैं। बड़ती कीमतों पर लगाम नहीं कसी का रही है। आलू पचास व प्याज साठ रुपए किलो बिक रहा है। इन दिनों सब्जियों की आवक रहती है।लेकिन दाम अपने रफ़्तार पर है।
आलू और प्याज के दाम आज आम लोगों की पहुंच से दूर हो रहे हैं। इस समय एक-एक किलो आलू और प्याज खरीदने के लिए सौ रुपये भी पर्याप्त नहीं हैं। ऐसे समय जबकि आम लोग कोविड-19 की वजह से पहले ही काफी संकट में हैं, इन सब्जियों की कीमतों में आए उछाल से उनकी परेशानी और बड़ रही है।कीमतों में उछाल से आम आदमी की पहुंच से आलू-प्याज दूर है।आलू-प्याज इतना महंगा हो गया है कि मिडिल क्लास के लिए यह पहुंच से बाहर हो गई है। जो लोग असंगठित क्षेत्रों मे दिहाड़ी पर काम करते हैं उनके लिए सब्जी सपना होने लगी है। कृषि क्षेत्र के विशेषज्ञों का कहना है कि आवश्यक जिंसों की कीमतों में तेजी, मजदूरी में गिरावट और बेरोजगारी बढ़ने की वजह से सरकार के राहत उपायों के बावजूद आज गरीब परिवारों की स्थिति काफी खराब है। मध्यमवर्गीय परिवार के लिए भी पिछले कुछ सप्ताह के दौरान आलू, प्याज कीमतों में आए उछाल की वजह से अपने रसोई के बजट का प्रबंधन करना मुश्किल हो रहा है।दिल्ली में प्याज का खुदरा भाव साठ रुपये है। सभी सब्जियों के साथ मिलकर बनने वाला आलू प्याज लोगों को रुला रहा है। चाट व समोसा बनाने वाले भी परेशान हैं।उन्हें अपना सामान को कीमत तेज करना पड़ रहा है। इस समय शादी व्याह का दौर चल रहा है।लोग अपने बजट में ही कार्य करना चाहते हैं।चाट पकौड़े में आलू प्याज की खोट होती है। दामों ने इनका स्वाद किरकिरा कर दिया है।भले ही गोभी बाजार में सस्ते बिक रहा है मगर आलू प्याज़ के दाम ने इनका स्वाद खराब किया है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!