कानून दो बालिग व्यक्तियों को एक साथ रहने की इजाजत देता है- HC

प्रयागराज

■ इलाहाबाद हाईकोर्ट का अहम फैसला,

■ हाईकोर्ट ने कहा दो युवा को अपनी पसंद का जीवन साथी चुनने का है अधिकार,

■ कोर्ट ने कहा कानून दो बालिग व्यक्तियों को एक साथ रहने की इजाजत देता है,

■ चाहे वे समान या विपरीत सेक्स के ही क्यों न हों,

■ उनके शांतिपूर्ण जीवन में कोई व्यक्ति या परिवार दखल नहीं दे सकता है,

■ यहां तक कि राज्य भी दो बालिग लोगों के संबंध को लेकर आपत्ति नहीं कर सकता है,

■ कुशीनगर थाना विष्णुपुरा के सलामत अंसारी व तीन अन्य की ओर से दाखिल याचिका,

■ सलामत और प्रियंका खरवार ने परिवार की मर्जी के खिलाफ की है शादी,

■ दोनों ने मुस्लिम रीति रिवाज के साथ 19 अगस्त 2019 को की है शादी,

■ प्रियंका खरवार से आलिया बनी सलामत की पत्नी के पिता ने दर्ज कराई है एफ आई आर,

■ बेटी के अपहरण और पोक्सो एक्ट के तहत दर्ज कराई है एफ आई आर,

■ याचिका में एफआईआर रद्द करने की और सुरक्षा की मांग,

■ कोर्ट ने पाया प्रियंका खरवार उर्फ आलिया की उम्र का नहीं है कोई विवाद,

■ प्रियंका खरवार उर्फ आलिया की उम्र है 21 वर्ष,

■ कोर्ट ने प्रियंका खरवार उर्फ आलिया को अपने पति के साथ रहने की दी छूट,

■ कोर्ट ने कहा पोक्सो एक्ट नहीं होगा होता है लागू,

■ कोर्ट ने याचियों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी को किया रद्द,

■ पिता के बेटी से मिलने के अधिकार पर कोर्ट ने कहा,

■ बेटी प्रियंका खरवार की मर्जी है वह किससे मिलना चाहेगी,

■ हालांकि कोर्ट ने उम्मीद जताई है कि बेटी परिवार के लिए सभी उचित शिष्टाचार और सम्मान का व्यवहार करेगी,

■ प्रियंका खरवार उर्फ आलिया के पिता ने कहा शादी के लिए धर्म परिवर्तन प्रतिबंधित है,

■ ऐसी शादी कानून की नजर में नहीं है वैध,

■ कोर्ट ने कहा व्यक्त की पसंद का तिरस्कार पसंद की स्वतंत्रता के अधिकार के खिलाफ,

■ कोर्ट ने कहा प्रियंका खरवार और सलामत को अदालत हिंदू और मुस्लिम के रूप में नहीं देखती है,

■ कोर्ट ने कहा संविधान के अनुच्छेद 21 ने अपनी पसंद व इच्छा से किसी व्यक्ति के साथ शांति से रहने की आजादी देता है,

■ इसमें हस्तक्षेप नहीं किया जा सकता है,

■ जस्टिस पंकज नकवी और जस्टिस विवेक अग्रवाल की डिवीजन बेंच ने दिया आदेश



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!