सीएम योगी के दौरे को लेकर अधिकारियों में बेचैनी बढ़ी

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । सीएम योगी का सोनभद्र और मिर्जापुर का दौरा तय है। दौरे का प्रोटोकॉल आ चुका है। प्रोटोकॉल के अनुसार 22 नवम्बर को सुबह 10:30 बजे चतरा विकास खंड के धंधरौल बांध तट पर बने कार्यक्रम स्थल पर पहुंचेंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ जिले में लगभग दो घंटे तक रुकेंगे। इसके बाद सीएम मिर्जापुर के लिए रवाना हो जाएंगे। सीएम के दौरे को लेकर अधिकारियों में हड़कम्प मचा हुआ है। सीएम के प्रोग्राम के हिसाब से जगह-जगह तैयारी देखी जा रही है।

सीएम मिर्जापुर में गोवंश आश्रम का निरीक्षण करेंगे। जिसको देखते हुए रावर्ट्सगंज नगर पालिका क्षेत्र में अस्थाई गोवंश आश्रम में भी युद्ध स्तर पर तैयारी चल रही है। सीएम के आगमन की खबर मिलते ही नगर पालिका से लेकर पशु चिकित्सा विभाग में हलचल देखा जा रहा है। अधिकारी जानते हैं कि सीएम योगी कभी भी कहीं भी चले जाते हैं इसलिए इन्हें ये डर भी सताने लगा हैं कि कहीं सीएम रॉबर्ट्सगंज में भी स्थापित अस्थाई गोवंश आश्रम का निरीक्षण ना कर लें। सीएम को खुश करने में कोई कोर कसर न रह जाए इसलिए ईओ से लेकर नगर पालिका अध्यक्ष तक खुद मौके पर जाकर व्यवस्था को पूरा कराने में जुटे हुए हैं। कहीं सीएम साहब को कोई कमी न दिख जाए इसलिए हर बारीक से बारीक चीजों पर नजर रखी जा रही है।

दो दिन बारिश हुई तो मौसम का मिजाज बदल गया, जिससे ठंड में इजाफा हो गया। इसलिए गोवंश आश्रम में ब्लोवर भी लगा दिया गया ताकि गायों को ठंड में दिक्कत न हो।

वहीं बारिश के कारण कीचड़ में तब्दील हुए गोवंश आश्रम के जमीन को सही करने के लिए जमीन पर फ्लोरिंग का काम भी कराया जा रहा है। दीवारों से लेकर पोल तक सभी जगह पेंट करा दिया गया है ताकि सब चकाचक दिखे। गोवंश आश्रम के ठीक सामने की नाली तक को साफ कर दवा छिड़क दिया गया।

वहीं नगरवासियों के कहना है कि “नगर पालिका द्वारा साफ-सफाई को लेकर इतना संजीदा पहले नहीं देखा गया और ऐसे तभी होता है जब कोई बड़ा नेता जिले में आता है। वहीं लोगों का कहना है कि यदि सीएम अचानक निरीक्षण करने रॉबर्ट्सगंज का रुख कर देंगे तो कहीं साहब की नौकरी ही ना फंस जाए। वरना नगर के लोग कहते रह गए लेकिन कभी नाली का साफ नहीं हुआ।”

गोवंश आश्रम में चल रही तैयारी को लेकर लोगों ने सवाल उठाते हुए कहा कि जो व्यवस्था नगर पालिका व पशु विभाग द्वारा अब कर रहा है वह पहले क्यों नहीं किया गया? यदि गोशाला में इन व्यवस्थाओं को दिया जाना है तो अब तक क्यों नहीं दिया गया, इसकी जांच होनी चाहिए और दोषियों के खिलाफ कार्यवाही भी होनी चाहिए। नगर में बढ़ी संख्या में गोवंश सड़कों पर घूमते रहते हैं लेकिन शिकायत के बाद भी नगर पालिका प्रशासन के कान पर जूं तक नहीं रेंगता, सीएम के दौरे के ठीक पहले अचानक सभी गोवंशों कैसे पकड़ कर गोवंश आश्रम में भेज दिए गए, इसकी भी जाँच होनी चाहिए।

बहरहाल सीएम के निरीक्षण के बहाने ही सही नगर व गौशाला की कुछ व्यवस्था जरूर दुरुस्त हो जाएगी। अब देखना यह है कि गौशाला में लगा ब्लोवर से लेकर अन्य व्यवस्था कब तक रहता है?



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!