एक से आठ तक के स्कूलों की कक्षावार गाइड लाइंस की तैयार

फ़ैयाज़ खान मिस्बाही (ब्यूरो)

गाजीपुर । कोरोना आपदा के कारण हुए लॉकडाउन से बंद चल रहे उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों और जूनियर हाईस्कूलों को खोलने के लिए बेसिक शिक्षा विभाग ने स्वास्थ्य और गृह विभाग से राय मांगी है। केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देश के क्रम में बेसिक शिक्षा विभाग ने भी कक्षा एक से आठ तक के स्कूलों को संचालित करने के लिए अपनायी जाने वाली कक्षावार गाइडलाइंस तैयार की है। इसलिए प्रस्तावित गाइडलाइंस का पालन करते हुए स्कूलों को खोलने के बारे में परामर्श मांगा गया है।
लॉकडाउन लागू होने के बाद से कक्षा एक से आठ तक के स्कूल बंद हैं। प्रदेश में 1.35 लाख परिषदीय स्कूल हैं। इनके अलावा 91 हजार निजी स्कूल हैं। मिशन प्रेरणा से जुड़े विभिन्न कार्यों, बच्चों को खाद्य सुरक्षा भत्ता वितरण और फरवरी में हुए स्टूडेंट असेसमेंट टेस्ट के रिपोर्ट कार्ड वितरण आदि कार्यों के लिए परिषदीय विद्यालयों के शिक्षक तो जुलाई से ही स्कूलों में बुलाये जा रहे हैं लेकिन इनमें बच्चों की पढ़ाई बंद है।निजी स्कूलों में भी पहली से आठवीं तक की कक्षाएं नहीं संचालित हैं।
19 अक्टूबर से माध्यमिक विद्यालयों में कक्षा नौ से 12 तक के विद्यार्थियों की पढ़ाई शुरू हो चुकी है।शासन ने 23 नवंबर से विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में स्नातक स्तर की पढ़ाई शुरू करने का आदेश जारी कर दिया है।परिषदीय स्कूलों में कक्षा एक से आठ तक की पढ़ाई होती है।इनमें कम उम्र के अबोध बच्चे आते हैं जो कोरोना संक्रमण को लेकर अपेक्षाकृत कम जागरूक हैं। छोटे बच्चे शारीरिक दूरी के पालन को लेकर भी सतर्क नहीं होते।उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कम होती है।
उधर, दिल्ली समेत कुछ राज्यों में कोरोना के बढ़ते प्रकोप और संक्रमण की संभावित दूसरी लहर के मद्देनजर बेसिक शिक्षा विभाग स्कूलों को खोलने के बारे में फूंक-फूंक कर कदम रख रहा है। केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देश के क्रम में बेसिक शिक्षा विभाग ने भी कक्षा एक से आठ तक के स्कूलों को संचालित करने के लिए अपनायी जाने वाली कक्षावार गाइडलाइंस तैयार की है। लिहाजा बेसिक शिक्षा विभाग ने प्रस्तावित गाइडलाइंस का पालन करते हुए स्कूलों को खोलने के बारे में स्वास्थ्य और गृह विभाग से परामर्श मांगा है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!