पराली जलाने के विरूद्व जिला प्रशासन ने की कड़ी कार्यवाही

दीनदयाल शास्त्री (ब्यूरो)

पीलीभीत । जिला प्रशासन द्वारा पराली/गन्ना की पताई न जलाने के सम्बन्ध में कडे दिशा निर्देश जारी किये गये हैं तथा नियमित किसानों को जागरूक किया जा रहा है कि पराली/गन्ना की पताई जलाना दण्डनीय अपराध है इसके उपरान्त भी तहसील बीसलपुर के ग्राम दियोराजपुर के कृषक काशीराम पुत्र ताराचन्द्र गाटा संख्या 30/1.157 हेक्टेयर भाग के 1/6 या 0.090 हेक्टेयर पर खेत में मौजूद कूड़ा करकट में आग लगाये की घटना का संज्ञान सैटेलाइट द्वारा प्राप्त होने पर जिला प्रशासन द्वारा उनके विरूद्व मंगलवार को कड़ी कार्यवाही करते हुये एफआईआर दर्ज की गई है तथा उनका राशनकार्ड, हैसियत प्रमाण पत्र निरस्त करने के निर्देश दिये गये हैं। इसके साथ ही साथ कृषक माखन लाल पुत्र लोकराम ग्राम पिपरैइया मा0 दियोहना गाटा संख्या 142/2.435 हेक्टेयर द्वारा परमल की भट्टी के समीप कूड़ा करकट जलाया गया। सम्बन्धित भट्टी को सीज करते हुये एफआईआर दर्ज कराई गई तथा राशन कार्ड निरस्त करने की कार्यवाही की गई है।
ग्राम पिपरैइया मा0 दियोहना के चक मार्ग गाटा 474/0.271 हेक्टेयर में स्थित गन्ना सेंटर की समीप कृषको द्वारा तापने हेतु पताई जलाने की घटना सैटेलाइट के माध्यम से संज्ञानित हुई, जिसके क्रम गन्ना प्रभारी दिनेश मिश्रा तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है तथा तौल लाईसेंस निरस्त करने की कार्यवाही की गई है। बीसलपुर के ग्राम चक शिवपुरी के कृषक गंगासरन पुत्र भीमसेन गाटा संख्या 117/1.239 हेक्टेयर पर जलने की सैटेलाइट द्वारा प्राप्त सूचना पर कड़ी कार्यवाही करते हुये कृषक के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई तथा राशन कार्ड निरस्त करते हुये सरकारी योजनाओं का लाभ प्रदान करने से वंचित किया गया है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!