बंदरों के उत्पाद से गुरमा नगरवासी हो रहे परेशान

अरविंद चौबे (संवाददाता)

– बागबानी, खेतों समेत घरों में घुस कर रहे नुकसान, कालोनी परिसर बना बसेरा

मारकुंडी । वनों का सफाया होने के कारण अब जंगली जानवरों का रुख गांव के गलियारों तक अब पहुंचने लगे हैं इसी क्रम में चुर्क-गुरमा नगर पंचायत क्षेत्र के अन्तर्गत गुरमा कालोनी के खाली आवासों में जंगली बंदरों का बसेरा हो जाने के कारण आस पास के सभी नगरवासी त्रस्त है। नगरवासियो ने बताया कि खेत-खलिहान बागबानी को जहां नुकसान पहुंचा रहे है वहीं घरों में घुस कर खाना सहित वर्तन, तावा पर बनती रोटियां लेकर भाग जा रहे हैं। बन्दर इतने ढीठ हो गये है कि बड़ों के मारने पर कटने के लिए दौड़ते है। इसी क्रम में गुरमा चौराहे के समीप बंदरों के झुंड पर एक कुत्ता दौडा़ तो आधा दर्जन बंदरों ने कुत्ते को दबोच कर काटने लगे जिससे काफी लोगो की भीड़ तमाशा देखने लगे संयोग से बाबू लाल चौबे, सुनील, कन्हैया इत्यादि लोगों ने बंदरों को भगा कर कुत्ते की जान बचाई बंदरों से मुक्ति पाने के बाद कुत्ता भाग निकला। नगरवासियो ने बताया कि इन दिनों बन्दोरो के उत्पाद से जहां सभी नगरवासी परेशान हैं वहीं अब छोटे-छोटे बच्चों के लिए सबसे अधिक खतरा बन गया है।
इस सम्बन्ध में नगरवासियों ने गुरमा वन रेंज अधिकारी से इससे बचाव की गुहार लगाई है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!