गोवर्धन पूजा आज, वीर लोरिक परिसर में होगा भव्य आयोजन

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । मध्य प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़ और बिहार जैसे राज्यों को जोड़ने वाले वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग पर स्थित मारकुंडी घाटी में आज भी वह पत्थर जस का तस खड़ा है जिसे वीर लोरिक ने अपनी बलशाली भुजाओं से खंडित किया था। मंजरी व लोरिक के अमर प्रेम का साक्षी घाटी का यह पत्थर आज प्रेम के असली मायने को सिखाता है। इतना ही नहीं इस मार्ग से गुजरने वालों राहगीरों का ध्यान भी अपनी ओर खींचता है। इस ऐतिहासिक पत्थर के समीप ही हर साल विराट गोवर्धन पूजा किया जाता है लेकिन इस बार कोविड-19 की वजह से बड़ा आयोजन तो नहीं होगा, लेकिन पूजन का भव्य आयोजन रखा गया है। इसी गोवर्धन पूजा के मौके पर यहां एक साल के मौसम की भविष्यवाणी भी की जाती है।

वहीं आयोजन समिति से जुड़े आयोजन समिति से जुड़े रोशन लाल यादव बताते हैं कि “हर साल दीपावली के अगले दिन गोवर्धन पूजा का आयोजन होता था लेकिन इस बार का आयोजन 16 नवंबर को होगा तथा कोविड-19 के कारण हर वर्ष होने वाले दंगल का आयोजन नहीं होगा। वहीं पूजा भव्य तरीके से सम्पन्न कराई जाएगी।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!