बाहुबली विधायक विजय मिश्रा के विजय टावर के ध्वस्तीकरण का मामला, हाईकोर्ट ने ऐसी ध्वस्तीकरण नोटिसों का मांगा ब्यौरा

प्रयागराज

■ बाहुबली विधायक विजय मिश्रा के विजय टावर के ध्वस्तीकरण का मामला,

■ हाईकोर्ट से ध्वस्तीकरण मामले में पी डी ए को राहत के साथ लगा झटका,

■ हाईकोर्ट ने ऐसी ध्वस्तीकरण नोटिसों का मांगा ब्यौरा,

■ जिन नोटिसों पर तीन साल बीत जाने पर भी कोई कार्यवाई नहीं की गयी,

■ कोर्ट ने कहा नोटिसों पर कार्रवाई न होने पर अधिकारियों की तय हो जवाबदेही,

■ पीडीए ने हाईकोर्ट में कमिश्नर के आदेश को दी है चुनौती,

■ कोर्ट ने विपक्षी को ध्वस्तीकरण की नोटिस तामील होने पर संदेह व्यक्त करने के कमिश्नर के आदेश को सही नहीं माना,

■ कोर्ट ने पीडीए के सचिव से मांगा व्यक्तिगत हलफनामा,

■ पूछा है कि ध्वस्तीकरण की कितनी नोटिस जारी की है,

■ जिन पर तीन साल से अधिक समय बीत जाने के बाद भी कोई कार्यवाई नहीं की गयी है,

■ कोर्ट ने कहा कि प्राधिकरण में अवैध निर्माण ध्वस्तीकरण नोटिस जारी कर कोई कार्रवाई न करने का चलन बना हुआ है,

■ कोर्ट ने कहा कि विपक्षी स्वयं ही अवैध निर्माण हटाने के लिए तैयार है,

■ ऐसे में वह छह हफ्ते में भवन को नक्शे के अनुसार कायम करने के लिए अवैध निर्माण हटा ले,

■ 10 दिसंबर को होगी मामले की अगली सुनवाई,

■ इस दिन कोर्ट पीडीए के अधिकारियों की जवाबदेही तय करने पर करेगी विचार,

■ अल्लापुर स्थित विजय टावर के अवैध निर्माण ध्वस्तीकरण की पी डी ए ने 12 दिसम्बर 2007 को जारी की नोटिस,

■ 13 साल तक कोई कार्यवाई नहीं की गयी और अचानक ध्वस्तीकरण करने पहुंचे तो चुनौती दी गई,

■ हाईकोर्ट ने कमिश्नर के समक्ष अपील पर अंतरिम अर्जी तय होने तक ध्वस्तीकरण पर रोक लगा दी,

■ कमिश्नर ने पीडीए की 13 साल पहले जारी नोटिस के तामिल होने पर संदेह प्रकट किया,

■ कमिश्नर कोर्ट ने पी डी ए को नये सिरे से आदेश पारित करने का निर्देश दिया है,

■ जिसे पीडीए की ओर याचिका दाखिल कर चुनौती दी गई है,

■ जस्टिस अश्विनी कुमार मिश्र की एकल पीठ ने दिया आदेश।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!