जिलाधिकारी ने किया हस्त-निर्मित उत्पादो का तीन दिवसीय मेले का शुभारम्भ

दीनदयाल शास्त्री (ब्यूरो)

० जिलाधिकारी द्वारा जनपदवासियों से की गई अपील

० मेले में आकर स्थानीय उत्पादकों को खरीदकर बनाये आत्मनिर्भर

पीलीभीत । जिलाधिकारी पुलकित खरे द्वारा बुधवार को जनपद की महिला स्वयं सहायता समूहों, माटीकला शिल्पियों व कारीगारों तथा गोबर आधारित प्राकृतिक उत्पादकों को बढ़ावा देने के दृष्टिगत तीन दिवसीय दिपावली मेले का शुभारम्भ गांधी प्रेक्षागृह प्रांगण में किया गया। प्राकृतिक उत्पादकों को आम जन-सामान्य तक सुगमता से पहुॅचाने के उद्देश्य से तीन दिवसीय मेले का आयोजन 13 नवम्बर 2020 तक किया जायेगा।

जिलाधिकारी द्वारा नवीन पहल दिवाली के शुभ अवसर पर आत्म निर्भरता का संदेश देते हुए ग्रामीण क्षेत्र के स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं व माटीकला शिलिपियों एवं कारीगारों द्वारा निर्मित विभिन्न प्रकार की सामग्री यथा दिया, मोमबत्ती, दोना पत्तल, डलिया, गरम मसाले, आचार, देशी-घी, शहद, दरी-आसन, कारचोबी के लहंगा/साड़ी/सूट, जलकुम्भी के रेशो से बने बैग, तथा मशरूम आदि उत्पाद जनपदवासी मेले में आकार प्राकृतिक रूप से बने स्थानीय सामग्री का उपयोग कर सकते है। इस अवसर जिलाधिकारी द्वारा जनपदवासियों से अनुरोध किया गया कि आयोजित मेले में आकार विभिन्न समूहों व कारीगारों द्वारा लगाये उपरोक्त उत्पादकों की खरीददारी करें। जिससे स्थानीय उत्पादकों व कारीगारों को बढ़ावा मिल सके तथा उनको आत्मनिर्भर बनाने में अपना सहयोग प्रदान करें। उन्होंने जनपदवासियों को आगामी त्यौहारों की बधाई देते हुये, मेले में लगे स्टालों से सामग्री खरीदने की अपील की गई। जिससे मेले में आये समूहों की महिलाओं एवं कुम्हार भाईयों के हस्त कौशल का उचित मूल्य प्राप्त हो सके, जिससे दीपावली पर्व पर इनके घरों में भी खुशियों के दीप प्रज्जवलित हो पाऐं। मेले के माध्यम से प्रशासन प्रदूषण एवं प्लास्टिक मुक्त प्राकृतिक तरीकों से दीपावली का त्योहार मनाने का संदेश देने का प्रयास कर रहा है।
जिलाधिकारी द्वारा मेले में महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा हस्त निर्मित बनाई गई सामग्री के लगे स्टालों का निरीक्षण कर उत्पादकों का जायजा लिया गया तथा उत्पादकों को स्थानीय स्तर पर बढ़ावा देने हेतु सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ देने तथा उनकी बिक्री हेतु जनपद स्तर पर कुछ दुकानों का चयन कर उपलब्ध कराने हेतु सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया गया। जैविक खेती के किसान द्वारा लगाये स्टाल के निरीक्षण के दौरान अन्य किसानों को भी जागरूक करने हेतु निर्देशित किया गया।
आयोजित मेले का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों के समूहों व कुम्हार भाईयों द्वारा दिपवाली से सम्बन्धित हस्त-निर्मित सामग्री की बिक्री उचित मूल्य पर स्वावलम्बन के साथ कराया जाना है। इस मेले खासकर ऐसे समूहों और माटी शिल्पियों को स्थान दिया जा रहा है जिनको सामान्यतः मेले में प्रतिभाग करने का मौका नही मिलता है, विशेष कर दूर ग्रामीण क्षेत्रों के इन कलाकारों को मुख्य धारा में लाकर सीधे अपने उत्पाद ग्राहकों को बेचनें का मौका दिया जा रहा हैं।
आयोजित मेले में महिला स्वयं सहायता समूहों के अन्तर्गत बिलसण्डा से वारिस समूह द्वारा जरीकारचोबी/सिलाई, शिव शक्ति समूह द्वारा मिट्टी के दिये, माया स्वयं सहायता समूह द्वारा देशी घी, बरखेडा से महावीर समूह द्वारा मशरूम, अलमदान समूह द्वारा कुम्हारी कला, बीसलपुर से शिवशंकर समूह द्वारा दोना पत्तल, महादेवा समूह द्वारा मशाला आचार सूखा प्याज लहसुन, मार्डन समूह द्वारा दरी, आसान, मरौरी से श्रद्वा समूह द्वारा जलकुम्भी का बैग, विकास समूह द्वारा मास्क, स्कूल डेªस, शनि देव समूह द्वारा शहद, ललौरीखेड़ा से सहेली समूह द्वारा शहद, दम मदार समूह द्वारा जरी जरदोजी, ऊनी झालर, गुड, चना, पूरनपुर से बचत समूह द्वारा कारचोबी का लहंगा, साड़ी, सूट, मास्क, गणेश समूह द्वारा कारचोबी का लहंगा, साडी, सूट, मास्क, अमरिया से शुभ समूह द्वारा मोमबत्ती, प्रगति समूह द्वारा मशरूम आदि समूहों द्वारा स्टाल लगाया जायेगा। कुम्हारी कला के अन्तर्गत पूरनपुर के माटी कला शिल्पकार सतेन्द्र कुमार, रामचन्द, तारा चन्द्र द्वारा मूर्ति का स्टाल, बीसलपुर से कृष्ण कुमार,पूरनलाल द्वारा दीपक, कुल्ड, हाडी, गमला, सदर तहसील से राजेन्द्र कुमार, नरेश कुमार, जगदीश कुमार, शंकर लाल, बृज लाल, छेदालाल, चेतराम, रोजश, इन्द्रजीत, पातीराम द्वारा दीपक सहित अन्य सामग्री के स्टाल लगाये जायेगें। शिल्पकार सरिता द्वारा शर्ट, लोअर, मो0 कासिम द्वारा लहंगा, सूट, साड़ी, जरी, कढ़ाई से सम्बन्धित उत्पादकों का स्टाल लगाया जायेगा। तहसील कलीनगर से नरेश कुमार, मुन्ना लाल, हरीशंकर द्वारा भी मूर्ति व दीपक के स्टाल लगाये जायेगें।
आयोजित मेले में मुख्य विकास अधिकारी श्रीनिवास मिश्र, अपर जिलाधिकारी (न्यायिक) देवेन्द्र प्रताप मिश्र, जिला विकास अधिकारी योगेन्द्र पाठक, उप जिलाधिकारी, परियोजना निदेशक अनिल कुमार, खादी ग्रामोद्योग अधिकारी सहित अन्य जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!