जिलाधिकारी के गलत रिपोर्टिंग से तहसील बनने में आ रही बाधा जल्द होगी दूर

अबुलकैश डब्बल ब्यूरो
* बैठक कर बाधा दूर करने के लिए हुए विचार विमर्श

चंदौली। धानापुर विकास मंच की बैठक सोमवार को 11 बजे किशुनपुरां गांव में रामानुज यादव के आवास पर हुई। बैठक में धानापुर को तहसील बनाने के सम्बन्ध आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए विचार विमर्श किया गया।मंच के संयोजक गोविन्द उपाध्याय ने जिला अधिकारी कि उस आंख्या का उल्लेख करते हुए कहा कि यह रिपोर्ट जिसके माध्यम से जिला अधिकारी चंदौली ने राजस्व परिषद को पत्र भेजकर धानापुर को तहसील बनाए जाने कि विपरीत आख्या भेजी है वह सरासर गलत है। उस आख्या में जिला अधिकारी चंदौली ने कहा है कि परगना बरह और महाइच के पुनर्गठन के पश्चात जो तहसील बननी चाहिए वह कम से कम 100 राजस्व क्षेत्र और लेखपाल क्षेत्र की होनी चाहिए। इस मानक पर धानापुर की प्रस्तावित तहसील बनाना उचित नहीं है। उन्हीने यह भी टिप्पणी किया है धानापुर तहसील क्षेत्र में सड़कों का अभाव तथा रखरखाव नहीं है। उन्होंने ने यह भी लिखित में यह भी कहा है कि “क्षेत्र के कुछ संभ्रांत लोगों से विचार करने पर उन सभ्रांत लोगों ने धानापुर में तहसील बनाने की” आवश्यकता नहीं मानी।
अब मैं आपसे एक बात कहना चाहता हूं 4 जनवरी 2017 को माननीय राजस्व परिषद और महामहिम राज्यपाल उत्तर प्रदेश को दिए गए ज्ञापन के अनुसार धानापुर विकास मंच ने इसी मुद्दे को विशेष रूप से उठाया था की धानापुर से दिया, प्रसहटा, सहेपुर, नैढीं सडान,बोझवां ,शेरपुर सरैया, आदि गांव बाढ़ तो दूर बरसात के पानी से भी आवागमन में मजबूरतथा संचार एवं बाजार व्यवस्था से दूर रहते हैं। बरसात का पानी भी सड़कों से बाहर नहीं निकल पाता और लगभग 500 एकड़ की खेती जुलाई से जनवरी तक डूब जाती है, परंतु शासन की दृष्टि नहीं पड़ी। मेरी एक समस्या को तो कम से कम जिलाधिकारी ने पहचान लिया ।अब रही बात क्षेत्र की राजस्व परिषद में शासन को भेजे गए अपने पत्र में जिलाधिकारी ने जो रिपोर्ट भेजी है उसमें जिलाधिकारी की आख्या का उल्लेख किया है परंतु 100 राजस्व लेखपाल क्षेत्र का उल्लेख अपने मानक मानते हुए बिल्कुल नहीं किया है ।इससे स्पष्ट है लेखपाल क्षेत्र का मानक कदापि भी नहीं है। मैं आपके समक्ष दोनों पत्र जो जिला अधिकारी चंदौली ने राजस्व परिषद को भेजा है ,और दूसरा जो माननीय राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश में शासन को भेजा है वह भी साथ में समक्ष रख रहा हूं ।आप स्वयं देख ले सत्य क्या है? जनता की आवाज और आवश्यकता पर ध्यान देने वाला कोई भी जनप्रतिनिधि यह सवाल नहीं उठा रहा है । धानापुर को तहसील बनाने के लिए आम जनता को आगे आना पड़ेगा। साथ ही जिला अधिकारी को यह बताना पड़ेगा कि अगर हम शांतिपुर्ण हैं तो इसे हमारी कमजोरी न समझा जाए। बैठक में वीरेंद्र प्रताप सिंह ,सीतम प्रजापति, अंकित प्रजापति,लोहा यादव,साहिल गोंड़,अक्षय यादव, अखिलेश यादव, अजित कुमार,राजित यादव, मिथिलेश कुमार, राहुल यादव, रामपाल यादव, रामलाल, अशोक मौर्य ,शशिकांत संजय दुबे अमित राम, जितेंद्र यादव,सबलू गुप्ता,प्रभात सिंह आदि उपस्थित थे।
बैठक की अध्यक्षता रामानुज यादव और संचालन विरेन्द्र प्रताप सिंह ने किया।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!